पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक ने किया रामबाई का समर्थन, बसपा पर साधा निशाना

भोपाल। मध्य प्रदेश में ठंड का कहर जारी है लेकिन प्रदेश की राजनीति में सगर्मी बढ़ गईं हैं। बहुजन समाजवादी पार्टी के मुखिया मायावती ने दमोह जिले की पथारिया विधानसभा से बसपा विधायक रामबाई को निलंबित कर दिया है। जिसके बाद प्रदेश की सियासत में हल चल मच गई है। भाजपा के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने बयान जारी कहा है कि  राम बाई ने संवैधानिक व्यवस्थाओं और राष्ट्रीय कानून का समर्थन किया है। 

उन्होंने कहा कि राम बाई ने संविधान का समर्थन किया है। सीएए कानून जो आज कानून का दर्ज प्राप्त कर चुका है। और ऐसे कानून का समर्थन करने की सज़ा मिलती है तो मुझे ऐसी पार्टी पर तरस आता है उस पार्टी की विचार धारा पर तरस आता है। मैं मानता हूं कि पार्टी से ऊपर देश होता है राष्ट्र होता है। बहन मायावती जी ने उनके निलंबन की जो कार्रवाई की है मैं उसको उचित नहीं मानता। मैं रामबाई का समर्थन करता हूं। 

गौरतलब है कि रविवार को ट्विटर पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्विट कर जानकारी दी थी कि उन्होंने बसपा विधायक रामबाई को नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन करने के चलते पार्टी से निलंबित कर दिया है। साथ ही पार्टी के कार्यक्रमों में जाने पर भी रोक लग दी है। राम बाई ने मोदी सरकार द्वारा लाए गए इस कानून का समर्थन करते हुए कहा था कि यह कानून लाने की पूर्व सरकारों में हिम्मत नहीं थी। मैं और मेरा पूरा परिवार इस कानून का समर्थन करता है।