निकाय चुनाव से पहले एक और मास्टर स्ट्रोक लगाने की तैयारी में सरकार

भोपाल।

झाबुआ चुनाव से गदगद हुई कांग्रेस अब नगरीय निकाय चुनावों की तैयारियों में जुट गई है। इसी के साथ प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने अपने एक साल में किए गए वादों को जनता के बीच भुनाना का फैसला किया है। खबर है कि आने वाले दिनों में सरकार एमपी में सस्ती बिजली देने की ब्रांडिंग करने जा रही है।इतना ही नही सस्ती बिजली मिलने वाले बिलों पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की फोटो भी लगाई जायेगी।सरकार के इस मास्टर प्लान से बीजेपी सकते में आ गई।चुंकी अभी तक विपक्ष की भूमिका निभा रही बीजेपी सरकार को बिजली बिलों को लेकर घेरती आई है, हाल ही में बीजेपी ने प्रदेशव्यापी प्रदर्शन किए थे और आने वाले शीतकालीन सत्र में भी घेराबंदी की फिराक में है।हालांकि इससे सरकार को कितना फायदा मिलेगा या मुश्किलें कम होगी या नही तो आने वाला ही वक्त बताएगा।

दरअसल,  प्रदेश सरकार ने इंदिरा ग्रह ज्योति योजना में बिजली उपभोक्ता जो प्रतिमाह 100 यूनिट तक बिजली की खपत करते है उन्हें 100 रुपए प्रतिमाह बिजली का बिल दिया जा रहा है। इसका लाभ प्रदेश के कई परिवारों को मिल रहा है।इसी को आधार बनाकर सरकार जनता के बीच सस्ती बिजली की ब्रांडिंग करने जा रही है।खास बात ये है कि इसकी जिम्मेदारी कांग्रेस के विधायक और मंत्रियों को दी जाएगी।इसके लिए सरकार उन्हें इसका ब्रांड एम्बेस्डर बनाएगी जो जनता के बीच जाकर सरकार की योजनाओं और वादों का बखान करेंगें।साथ ही बताएंगें कि सरकार ने सत्ता में आने के बाद कितने वचन पूरे किए है और आगे भी इसी तरह करती रहेगी।

सुत्रों की माने तो सरकार इसमें उन विधायकों को शामिल किया जा जा सकता है जो मंत्री बनने की आस लगाए बैठे है और बयानबाजी कर बार बार सरकार की मुश्किलें बढ़ाते है। वही मंत्रियों में भी उन नामों को शामिल किया जा सकता है, जो सरकार के प्रति मुखर होते नजर आ रहे है।गुटबाजी और अंतरकलह को साधने के लिए सरकार का यह बड़ा मास्टरस्ट्रोक साबित हो सकता है।