Itarsi: कोरोना का मरीज़ मिलने से प्रशासन सख्त, मास्क लगाने पर दिया ज़ोर

इटारसी में मिला कोरोना का नया मामला। रेलवे कर्मचारी कोविड-19 पॉजिटिव। प्रशासन ने सबसे मास्क लगाकर कोरोनावायरस के नियमों का पालन करने की अपील की।

इटारसी, राहुल अग्रवाल। Itarsi कोविड के दंश को पहली और दूसरी लहर में झेल चुका है। प्रतिदिन दो सौ मरीज और 10 के लगभग मौत का मंजर इटारसी कभी नहीं भूल सकता। फिलहाल कोरोनावायरस की तीसरी लहर का अंदेशा इस समय बना हुआ है। केंद्र और राज्य सरकारें इसे लेकर अलर्ट हो चुकी है। इसी बीच नए वेरिएंट omicron ने भी पैर पसारना शुरू कर दिए हैं।

यहां भी देखें-C  मध्यप्रदेश में कोरोना विस्फोट, 24 घंटे में आए 72 केस, इंदौर-भोपाल की हालत गंभीर

इसी बीच इटारसी में कोरोना के एक मरीज के मिलने के बाद शहर में हड़कंप मच गया है। नतीजतन कोविड-19 की गाइड लाइन का सख्ती से पालन करवाने हेतु प्रशासन ने एक बार फिर कमर कस ली है। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने मिलकर आम नागरिकों से नियमों का कड़ाई से पालन करने और मास्क पहनने की अपील की।

यहां भी देखें- MP Corona: 15-18 वर्षीय बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए गाइड लाइन जारी, CM Shivraj के प्रमुख निर्देश

नए साल के जश्न में हालांकि यह खबर खलल डाल सकती है लेकिन, शहर की एक पॉश कॉलोनी में रेल कर्मचारी के कोरोना संक्रमित हो जाने को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। मरीज को सिविल अस्पताल के कोविड वार्ड में भर्ती कराने के बाद परिवार के सभी सदस्यों के टेस्ट कर होम कॉरेन्टीन कर दिया गया है। एहतियातन आज बाजार क्षेत्र में लोगो से मास्क लगाने की अपील के साथ प्रशासन ने अन्य चीजों पर भी अलर्ट जारी किए हैं।

यह भी देखें- Indore News : इंदौर में लुटेरो का आतंक महिलाओं को बनाया जा रहा है टारगेट, दो महिला हुई जख्मी।

प्रशासन रोको टोको अभियान चलाकर लोगों में फिर से जागरूकता बढ़ाने का काम किया जा रहा है। इस बारे में बात करते हुए एसडीएम मदन सिंह रघुवंशी ने बताया कि इटारसी की सोनासावरी क्षेत्र की साई फॉर्च्यून सिटी में रेलवे के कर्मचारी के कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं।इसके बाद लोगों में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से हम काम कर रहे हैं और आम नागरिकों से बिना मास्क के बाहर ना निकलने की अपील कर रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा, आज से हम सभी मिलकर रोको टोको अभियान को भी शुरू कर रहे हैं। गौरतलब है कि जब कोरोनावायरस जब चरम पर था उस दौरान जिले का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट इटारसी ही था। यहां रोजाना 200 से अधिक संक्रमित मरीज मिल रहे थे और मौत का आंकड़ा प्रतिदिन यहां लगभग 10 था। प्रशासन को उम्मीद है कि लोग इस बार ऐसी कोई गलती नहीं करेंगे और प्रशासन का साथ देते हुए कोरोनावायरस के खिलाफ ज़ंग में मदद करेंगे।