प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर विधायक लक्ष्मण सिंह ने दिया यह सुझाव

भोपाल।

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह(Digvijay singh) के छोटे भाई और कांग्रेस के विधायक लक्ष्मण सिंह (Laxman singh) कांग्रेस पार्टी को सुझाव दिया है कि यदि कांग्रेस(Congress) पूर्णकालिक अध्यक्ष बनाती है तो कार्यकर्ताओं की समस्याएं और उनका रोष, दोनों शांत हो सकते हैं।खास बात ये है कि लक्ष्मण का बयान उस समय सामने आया है जब कांग्रेस में राज्ससभा चुनावों के ऐलान के बाद से घमासान मचा हुआ है, हर कोई अपनी दावेदारी ठोक रहा है, ऐसे में लक्ष्मण ने पीसीसी चीफ पर बयान देकर सियासी गलियारों और कांग्रेस में भी हलचल पैदा कर दी है।

इंदौर (indore) में पत्रकारों से बातचीत करते हुए लक्ष्मण सिंह ने यह बात कही। लक्ष्मण सिंह ने कमलनाथ(Kamalnath) को कुशल और योग्य प्रशासक बताया लेकिन साथ ही उन्होंने कहा कि क्योंकि वे दोहरि जिम्मेदारी संभाल रहे हैं और उनकी उम्र भी लगभग 72-73 साल है इसलिए यदि पूर्णकालिक अध्यक्ष बनाया जाता है और वह पूरे प्रदेश का दौरा करता है तो फिर काफी हद तक समस्याएं दूर हो सकती हैं। लक्ष्मण सिंह ने यह भी सुझाव दिया कि कमलनाथ को सत्ता का विकेंद्रीकरण करना चाहिए जैसा दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री काल में किया था। लक्ष्मण ने यह भी कहा कि सत्ता के विकेंद्रीकरण के अच्छे परिणाम निकले थे। लक्ष्मण ने यह भी कहा कि हो सकता है कि कमलनाथ ऐसा करना चाहते हो और पंचायत चुनाव और नगरीय निकाय चुनावों के लिए रुके हो। मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के कमलनाथ की किचिन कैबिनेट में अधिकारियों के होने की बात को लक्ष्मण सिंह ने खारिज किया और कहा कि सज्जन भाई भी कैबिनेट (cabinet)का हिस्सा है। मंत्री और अधिकारियों के काम अलग-अलग हैं। पूरे प्रदेश में सिर्फ अधिकारियों की चल रही है, ऐसा नहीं है। हमेशा मंत्री या विधायक जी चले ऐसा भी नहीं होता। पूरे प्रदेश में सिर्फ कानून की चल रही है। सिंधिया को अध्यक्ष बनाए जाने की बात पर वह बोले कि सिंधिया(Scindia) कोई नाराज नहीं है और वह पहले ही कह चुके हैं कि वह किसी भी पद के इच्छुक नहीं।