सीएम शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सत्ता में आने के बाद से ही युवाओं (Youth) के रोजगार (Employment) पर फोकस करने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) का बड़ा बयान सामने आया है।एक महिने में एक लाख नौकरियों (JOB) का लक्ष्य लेकर चल रहे मुख्यमंत्री शिवराज का कहना है कि राज्य सरकार का प्रमुख टास्क रोजगार है। शासकीय नौकरियों (Government Jobs) और स्व-रोजगार के लिए व्यापक व्यवस्था हो रही है। इसके लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। शासकीय सेवाओं में जितने आवश्यक पद है, उन्हें भरा जाएगा।

यह भी पढ़े.. MP में संविदाकर्मियों-पुलिस भर्ती समेत महिलाओं को लेकर शिवराज सिंह चौहान ने की कई घोषणाएं

दरअसल, आज 9 मार्च मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) स्वामी विवेकानंद केरियर मार्ग दर्शन योजना के अंतर्गत कौशल विकास और स्व-रोजगार के लिए महाविद्यालयों (College) में प्रशिक्षण ले रहे 20 हजार से अधिक विद्यार्थियों से वर्चुअल संवाद कर रहे थे। इस दौरान सीएम ने कहा है कि स्व-रोजगार के लिए भी व्यापक व्यवस्थाएँ की गई हैं। युवाओं को अपना स्वयं का व्यवसाय आरंभ करने के लिये ”स्टार्ट योर बिजनस इन थर्टी डेज’ (Start your business in third days) की सुविधा उपलब्ध है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) का आभार मानते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति (New Education Policy) में व्यवसायिक शिक्षा की व्यवस्था भविष्य में युवाओं के लिये उपयोगी सिद्ध होंगी। स्वामी विवेकानंद केरियर मार्ग दर्शन योजना में ई-कामर्स, ऑनलाइन बैंकिंग (Online Banking) और कम्प्यूटर कौशल पर प्रशिक्षण उद्यमशीलता के विकास में महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही कौशल उन्नयन और व्यवसायिक प्रशिक्षण की व्यवस्था, लोन की गारंटी और ब्याज पर अनुदान की सुविधा भी प्रदेश के युवाओं को उपलब्ध करायी जा रही है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Update: अगले 48 घंटों में करवट लेगा मौसम, इन जिलों में बारिश के आसार

मुख्यमंत्री चौहान ने कोरोना काल (Corona Crisis0 में ऑनलाइन शिक्षण व्यवस्था  (Online Classes) जारी रखने के लिये उच्च शिक्षा विभाग(Higher Education Department)  को बधाई दी। उन्होंने कहा कि महाविद्यालयलीन स्तर पर व्यवसायिक प्रशिक्षण के नवाचार से मध्यप्रदेश की पूरे देश में अलग पहचान बनेंगी।युवाओं को लक्ष्य निर्धारित कर अनुशासित होकर व्यवस्थित रूप से परिश्रम करने के लिये प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि जो पहल करते है, परिश्रम करते है, सफलता उन्हें ही मिलती है।

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि स्वामी विवेकानंद केरियर मार्ग दर्शन योजना(Swami Vivekananda Career Guidance Scheme)  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा वर्ष 2006 में आरंभ की गई। इस योजना में पहली बार आधुनिक तकनीक के माध्यम से 498 शासकीय महाविद्यालयों Government College) के 18 हजार 800 विद्यार्थियों (Student) और 1600 प्रधायपकों ने एक साथ स्व-रोजगार और रोजगार का प्रशिक्षण प्राप्त किया। यह प्रशिक्षण नरोन्हा प्रशासन अकादमी द्वारा ऑनलाइन दिया गया है। मंत्री डॉ. यादव ने उच्च शिक्षा विभाग (Higher Education Department)  द्वारा संचालित विभिन्न गतिविधियों की जानकारी भी दी।

योजना अंतर्गत इन विषयों में है प्रशिक्षण की व्यवस्था

स्वामी विवेकानंद केरियर मार्ग दर्शन योजना के अंतर्गत विद्यार्थी अपनी रूचि के अनुसार दस विषयों में से किसी एक विषय में प्रशिक्षण ले सकते हैं। इसके अंतर्गत उन्नत कृषि कौशल, सौर ऊर्जा संयंत्र संधारण एवं विपणन, पशुधन, कुक्कुट, मधुमक्खी-मत्स्य पालन, पर्यटन (Tourism)एवं यात्रा प्रबंधन कौशल, ई-कामर्स एवं ऑनलाइन बैंकिंग, कराधान, आई.टी.-जी.एस.टी., खाद्य पदार्थ निर्माण एवं प्र-संस्करण, खान एवं खनिज संबंधी स्व-रोजगार, बुनकर, छापा कला-वस्त्र निर्माण, पत्रकारिता और अनुवाद कार्य विषयों को शामिल किया गया है।