भोपाल।

मध्यप्रदेश (MADHYA PRADESH) में बिजली चोरी रोकने के लिए एक नयी योजना शुरू की गयी है। मध्य प्रदेश की मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने बिजली चोरी की रोकथाम के लिए अब इनाम देने की घोषणा कर दी है। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने इसकी निगरानी के लिए एक विजिलेंस टीम (Vigilance Team) तैयार कर ली है। बिजली चुराने वाले आरोपी से जो वसूली की जाएगी उसका 10% चोरी की सूचना देने वाले को इनाम के तौर पर दिया जाएगा।

मध्य प्रदेश में बिजली चोरी (Power Theft) रोकने के लिए विद्युत विभाग द्वारा अब तक का सबसे अलग तरीका खोजा गया है। तरीका ये है कि अब आज किसी भी व्यक्ति की बिजली चोरी की शिकायत करते हैं तो इसके बदले में आपको इनाम (Prize) दिया जाएगा। दरअसल तमाम सख्तियों और पाबंदियों के बाद मध्य प्रदेश विद्युत वितरण कंपनी ने बिजली चोरी की घटनाएं आम होने के कारण उनकी रोकथाम के लिए अब इनाम देने की घोषणा की है। इस हिसाब से बिजली चोरी करने वाले व्यक्ति की प्रमाणित सूचना देने वाले को इनाम स्वरूप व्यक्ति से वसूले गए जुर्माने का 10 फीसदी हिस्सा इनाम के तौर पर शिकायत करने वाले शख्स को दिया जाएगा।

पहचान रहेगी गुप्त

इसकी खास बात ये है कि, सूचना देने वाले की पहचान भी पूरी तरह गुप्त रखी जाएगी। जानकारी गोपनीय रखने की जिम्मेदारी संबंधित अधिकारी की होगी। कंपनी के अधिकारी-कर्मचारी इस योजना में शामिल नहीं किये जाएंगे।

टीम लेगी एक्शन

बिजली चोरी रोकनी की इस योजना में कंपनी के कर्मचारियों का भी पूरा ध्यान रखा गया है। कंपनी के जो अधिकारी-कर्मचारी ये केस फाइल करेंगे और चोरी करने वाले से फाइन वसूलेंगे उन्हें भी ढाई प्रतिशत राशि प्रोत्साहन के रूप में दी जाएगी। कंपनी मुख्यालय में इसके लिए एक विजिलेंस टीम बना दी गयी है। सीधे इस टीम से शिकायत की जा सकती है। कॉल सेन्टर के नंबर 1912 और UPAY एप पर सूचना दी जा सकती है।

बता दें कि कंपनी के अधिकारी-कर्मचारी इस योजना में शामिल नहीं किये जाएंगे। हां अगर वो बिजली चोरी की शिकायत करते हैं तो कंपनी उन्हें प्रोत्साहन राशि जरूर दी जाएगी। ये पैसा सीधे उनके खाते में ट्रांसफर होगा।