मप्र में अब महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी-कर्मचारी भी होंगे कोरोना योद्धा

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) द्वारा स्वास्थ्य विभाग (health Department) के मैदानी अमले को कोरोना याेद्धा घोषित किए जाने के बाद अब महिला बाल विकास विभाग (Women Child Development Department)के प्रमुख सचिव ने कलेक्टरों  को पत्र लिखकर मैदानी अमले को कोरोना योद्धा घोषित करने को कहा है।

यह भी पढ़े.. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रॉपर्टी रजिस्ट्री वालों को दी बड़ी राहत

दरअसल, इस संबंध में महिला बाल विकास विभाग की संचालक स्वाति मीणा ने शुक्रवार को सभी कलेक्टरों (Collector) को पत्र भेजा है,  जिसमें कहा गया है, महिला एवं बाल विकास के संभागीय कार्यालय, जिला कार्यालय, वन स्टॉप सेंटर, बाल विकास परियोजना कार्यालय, बाल भवन, बाल देखरेख संस्थाओं, प्रशिक्षण, आंगनबाड़ी केंद्र में कार्यरत अमले को कोरोना योद्धा घोषित करें।

इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमने कोरोना योद्धा योजना पुनः प्रारंभ कर दी है। कार्य करते-करते हमारे जो स्वास्थ्य कर्मी दिवंगत हो जाएंगे, उनके परिवार की देखरेख शासन की जिम्मेवारी होगी। उनके परिवारों को सरकार की ओर से 50 लाख रुपये की सम्मान निधि दी जाएगी।कोरोना जैसे विकट संकट में जान हथेली पर रखकर दिन रात प्रदेश की जनता की सेवा करने के लिए मैं आप सभी को प्रणाम करता हूँ।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश में सख्ती बढ़ाने की तैयारी, अंतर्राज्यीय सीमाएँ हो सकती है सील

बता दे कि मध्य प्रदेश में तेजी से बढ़ते कोरोना को देखते हुए राज्य शासन ने मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्‍याण योजना (Covid-19 Warrior Welfare Plan) को फिर से लागू किया है, हालांकि इसकी अवधि मई 2021 तक रखी गई है। पूर्व में यह योजना 31 अक्टूबर, 2020 तक थी।हाल ही में इस योजना में परिवहन विभाग के कर्मचारियों-अधिकारियों को शामिल किया गया है।अब महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी कर्मचारी भी इस योजना में शामिल होंगे।

महिला बाल विभाग