MPPSC : राज्य सेवा परीक्षा की मुख्य परीक्षा में बड़ा बदलाव करने की तैयारी

MPPSC द्वारा इस बार राज्य सेवा परीक्षा की मुख्य परीक्षा का मूल्यांकन ऑनस्क्रीन (On Screen Evaluation) कराने की तैयारी में है। इसके तहत उत्तरपुस्तिकाओं को स्कैन कर डिजिटल में बदला जाएगा और फिर कंप्यूटर स्क्रीन पर मूल्यांकन कराया जाएगा।

MPPSC

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। गड़बड़ियों और त्रुटियों को रोकने के लिए मप्र लोक सेवा आयोग (Madhya Pradesh Public Service Commission-MPPSC) ने एक बड़ा फैसला किया है। इस बार राज्य सेवा परीक्षा 2019 (State Service Exam 2019) की मुख्य परीक्षा का मूल्यांकन (Evaluation) ऑनस्क्रीन किया जाएगा, जिसके तहत पहले मुख्य परीक्षा की उत्तरपुस्तिकाओं को Scan कर Digital में कन्वर्ट किया जाएगा और फिर उसका कंप्यूटर स्क्रीन पर मूल्यांकन करवाया जाएगा।

यह भी पढ़े… MPPSC : पीएससी की मुख्य परीक्षा से पहले बड़ी राहत, बढ़ाए गए 4 नए सेंटर

दरअसल, MPPSC द्वारा इस बार राज्य सेवा परीक्षा की मुख्य परीक्षा का मूल्यांकन ऑनस्क्रीन (On Screen Evaluation) कराने की तैयारी में है। इसके तहत उत्तरपुस्तिकाओं को स्कैन कर डिजिटल में बदला जाएगा और फिर कंप्यूटर स्क्रीन पर मूल्यांकन कराया जाएगा।इसके लिए मूल्यांकनकर्ता को इंदौर स्थित पीएससी (PSC) के मुख्यालय में बने सेंटर पर जाना होगा। मूल्यांकन करते समय स्क्रीन पर ही मार्किंग होगी और ऑनलाइन रिकॉर्ड (Online Record) बन जाएगा वहां से उसे गोपनीय लॉग इन आईडी (ID) और पासवर्ड (Password) मिलेगा, जिसे वो लॉग इन कर अपना मूल्यांकन प्राप्त कर सकेगा।

सेंटरों की संख्या भी बढ़ाई

इसके अलावा राज्य सेवा परीक्षा 2019 की मुख्य परीक्षा से पहले 4 नए सेंटर रतलाम, सतना, शहडोल और छिंदवाड़ा भी बनाए गए है, जिसके बाद कुल 8 सेंटर इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, रतलाम, सतना, शहडोल और छिंदवाड़ा हो गए है। खास बात ये है कि अबतक पीएससी (PSC) द्वारा सिर्फ संभागीय मुख्यालयों पर ही मुख्य परीक्षा के केंद्र बनाए जाते रहे है, लेकिन इस बार सेंटरों की संख्या में बढोत्तरी की गई है।

ऐसे होगी पूरी प्रोसेस
इसके अंतर्गत मूल्यांकन कर्ता को उत्तरपुस्तिका के स्थान पर प्रश्नोत्तरपुस्तिका मिलेगी। इसमें प्रश्न लिखा होगा और जवाब लिखना होगा। हालांकि जवाब के लिए शब्दों की सीमा तय होगी और उतनी ही जगह खाली मिलेगी । इसमें वो ओवर राइटिंग नहीं कर सकेगा। सभी प्रश्न एक क्रम से लिखे होंगे। हर प्रश्न के लिए तय शब्द सीमा के लिए स्थान छोड़ा जाएगा। इसके कारण उम्मीदवार को अब टू-द-पाॅइंट आंसर लिखने होंगे।

बता दे कि मुख्य परीक्षा 21 मार्च से 26 मार्च आयोजित होगी। इसके लिए 11 जनवरी से 9 फरवरी तक आवेदन लिए जाएंगे।हालांकि आवेदन वे ही उम्मीदवार जमा कर सकेंगे, जो प्रारंभिक परीक्षा में सफल हुए हैं।