Cabinet Expansion- नारायण पटेल ने जताई मंत्री बनने की इच्छा, संजय पाठक भी पहुंचे CM से मिलने

चर्चाओं का बाजार गर्म होते ही जहां एक तरफ कटनी विधायक संजय पाठक मुख्यमंत्री से मिलने पहुंच गए वही मांधाता विधायक नारायण पटेल ने भी दावेदारी ठोक दी।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल मध्यप्रदेश आने और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) के सीएम हाउस (CM House) में प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा, संगठन महामंत्री सुहास भगत  के साथ चर्चा ने एक बार फिर मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet expansion) की अटकलों को बल दे दिया है। वही इन सियासी सरगर्मियों ने मंत्री बनने का ख्वाब देख रहे विधायकों की भी धड़कने बढ़ा दी है। चर्चाओं का बाजार गर्म होते ही जहां एक तरफ कटनी विधायक संजय पाठक मुख्यमंत्री से मिलने पहुंच गए वही मांधाता विधायक नारायण पटेल ने भी दावेदारी ठोक दी।

खबर है कि सीएम हाउस में जब दिग्गजों की बैठक चल रही थी, तभी पूर्व मंत्री और कटनी से विधायक संजय पाठक (Sanjay Pathak) भी पहुंचे थे, यहां उनकी मुख्यमंत्री से बात हुई या नहीं या बात हुई तो क्या बात हुई यह तो स्पष्ट नही है, लेकिन चर्चाओं का बाजार गर्म है कि पाठक अपने दावेदारी पेश करने आए थे।चुंकी शिवराज सरकार (Shivraj Government) के पिछले कार्यकाल में वे मंत्री रह चुके हैं, लेकिन इस बार सिंधिया समर्थकों के चलते उन्हें मंत्रिमंडल में जगह नही मिल पाई थी, लेकिन अब 4 पद खाली (तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत को छोड़कर) हैं, ऐसे में माना जा रहा है कि पाठक को फिर से मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है, वैसे भी मंत्रिमंडल में महाकौशल से प्रतिनिधित्व नहीं है।

वही कांग्रेस का हाथ छोड़कर बीजेपी में शामिल होने के बाद उपचुनाव में शानदार जीत दर्ज करवाने वाले मांधाता विधानसभा क्षेत्र (Mandhata Assembly Constituency) से विधायक नारायण पटेल  (Narayan Patel) ने भी अपने दावेदारी पेश की है। पटेल भी शिवराज सरकार में मंत्री बनने की चाह रखते है। पटेल ने खुद ही मंत्री बनने की इच्छा जताई है पटेल का कहना है मांधाता की जनता चाहती है कि उनके क्षेत्र के विकास के लिए उन्हें मंत्री बनाया जाए और मेरी भी इच्छा है कि मैं मंत्री बनूं, हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि अंतिम फैसला मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष जी को करना है उनका जो भी फैसला होगा उसे माना जाएगा। इन दोनों विधायकों की सक्रियता ने अन्य दावेदारों की धड़कने तो बढ़ा ही दी है वही सियासी गलियारों में भी हलचल पैदा कर दी है।

दरअसल, बीते दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की मुलाकात के बाद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (MP Governor Anandiben Patel ) का 7 दिसंबर (December) की बजाय आज 4 दिसंबर को ही भोपाल पहुंचना और दूसरी तरफ मुख्यमंत्री शिवराज का सुबह से लेकर दोपहर तक अपने समय को रिजर्व कर सीएम हाउस (CM House) में प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा (VD Sharma), संगठन महामंत्री सुहास भगत (suhas bhagat) चर्चा करना कई सवालों और कयासो को जन्म दे रहा है।

सियासी गलियारों में बीजेपी प्रदेश की नई कार्यकारिणी के गठन के साथ साथ मंत्रिमंडल विस्तार की भी अटकलें तेज है, हालांकि मुख्यमंत्री शिवराज इससे इंकार कर रहे है और वीडी शर्मा का कहना है कि सामान्य बैठक थी कोई दुविधा नहीं है ।जब बैठते है तो सभी मुद्दों पर चर्चा होती है। सूत्रों की माने तो बैठक में तुलसी सिलावट (Tulsi Ram Silvat), गोविंद सिंह राजपूत (Govind Singh Rajput)  के अलावा चुनाव हारे तीन मंत्रियों इमरती देवी (Imrati Devi), गिर्राज दंडोतिया और एदलसिंह कंसाना को सरकार या निगम मंडलों में जगह देने को लेकर चर्चा हुई। ऐसे में पहले गोविंद सिंह राजपूत और तुलसी सिलावट को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है।इसके बाद निगम और संगठन में नेताओं को एडजस्ट कर विस्तार किया जा सकता है। बैठक में भाजपा की नई टीम को लेकर भी मंथन हुआ।अब देखना है कि आने वाले दिनों में मुख्यमंत्री क्या फैसला लेते है।इस पर सबकी निगाहें है।