नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। नए सूचना प्रसारण मंत्री अश्विनी वैष्णव ने अपना पद संभालते ही ट्विटर (Twitter) को लेकर सख्त रवैया इख्तियार किया है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर के साथ चल रहे सरकार के विवाद पर आईटी मंत्री ने साफ कहा कि देश का कानून सबसे ऊपर है और ट्विटर को नियम मानने ही होंगे। अश्विनी वैष्णव कैबिनेट मंत्री के रूप में इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय, संचार मंत्रालय और रेल मंत्रालय के प्रभारी बनाए गए हैं। उन्होने इलेक्ट्रॉनिक्स, आईटी मंत्रालय और संचार मंत्रालय में वरिष्ठ बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद का स्थान लिया है।

यशोधरा राजे ने भतीजे ज्योतिरादित्य को भावुक अंदाज में दी बधाई, “दादा” माधवराव को किया याद

इस बीच ट्विटर ने गुरूवार को दिल्ली हाईकोर्ट में कहा है कि वो 8 हफ्ते के भीतर शिकायत अधिकारी की नियुक्ति करेगा। साथ ही ये भी कहा कि आईटी नियमों के अनुपालन के लिए भारत में एक संपर्क स्थायी कार्यालय स्थापित करने की प्रक्रिया में है। बता दें कि ट्विटर को भारत में एक ग्रीवांस मैनेजर की नियुक्ति करनी है। इससे पहले कंपनी ने यूएस के एक अधिकारी को नियुक्त किया था, लेकिन वो कुछ ही समय बाद इस्तीफा देकर चले गए। कानून के मुताबिक ट्विटर को भारतीय नागरिकता वाले किसी अधिकारी को इस पद के लिए नियुक्त करना होगा।