हितग्राही से बातचीत करते कहां पहुंची मोदी की दूरदृष्टि ,दे डाली यह सलाह

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के उन स्ट्रीट बेंडर (Street vendor) से रूबरू थे, जिन्हें प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना|(Prime Minister’s Self Fund Scheme) के तहत लाभान्वित (Benefited) किया गया है ।20 जून 2020 से लागू हुई इस योजना के माध्यम से ‘रोज कमाने, रोज खाने’  वाले उन गरीब लोगों की दस हजार की आर्थिक सहायता(Financial Aid)  बैंकों के माध्यम से दी गई है, जिनका रोजगार लॉकडाउन (Lockdown) के चलते मंद पङ गया था।

इस दौरान मध्यप्रदेश में सांवेर, ग्वालियर और सांची के हितग्राहियों (Beneficiaries of sanwer,sanchi,gwalior) से मोदी ने सीधी बातचीत की। इंदौर के सांवेर में झाड़ू का व्यवसाय (Sweep business) करने वाले छगनलाल से बातचीत करते हुए मोदी ने इशारा किया कि आप की कुर्सी के नीचे एक प्लास्टिक की बोतल (plastic bottle) रखी है, जिससे आप पानी पीते हैं । मोदी ने छगनलाल को सलाह दी कि वे सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग बंद करें (stop using Single use plastic) जो कि स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है। इसके बजाय कोशिश करें कि जब भी अपने काम पर जाएं तो मिट्टी के मटके में (use pot of mud) पानी ले जाया करें। छगनलाल ने मोदी की इस सलाह को तुरंत अमल करने का भरोसा दिलाया। इतना ही नहीं मोदी ने छगनलाल को पुरानी झाड़ू के रीसाईकिल (Recycling of broom) करने के उपाय पर भी विचार करने की बात कही।

ग्वालियर (Gwalior) की अर्चना शर्मा  से बातचीत करते हुए मोदी ने कहा कि जब भी ग्वालियर आएंगे उनके ठेले पर चाट खाने जरूर आएंगे ।अर्चना ने बताया कि सभी सरकारी योजनाओं (Government schemes) के माध्यम से अब उनकी जिंदगी बेहद सरल हो गई है । वही सांची के डालचंद ने इस योजना के लिए मोदी को धन्यवाद दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Madhya Peadesh Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) की तारीफ करते हुए कहा कि इस योजना में 45% से ज्यादा मध्य प्रदेश की भागीदारी बताती है कि सरकार ने कैसे केंद्र की इस महत्वपूर्ण योजना पर गंभीरता के साथ लागू कर लोगों को लोगों में मदद पहुंचाने की भरपूर कोशिश की है। वही शिवराज ने साफ तौर पर कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की योजना लोगों के लिए वरदान साबित हुई है और मध्य प्रदेश इस योजना में अव्वल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here