संक्रमण की रफ्तार तेज पर रिकवरी रेट में तेजी से सुधार, 5 दिन में 32 हज़ार से अधिक हुए स्वस्थ

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में लगातार कोरोना (corona) संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। संक्रमण के बढ़ते रफ़्तार के बीच के इस तरह की स्थितियां भी सामने आई है। जो समय की विकटता की ओर इशारा करती है। बावजूद इसके कुछ अच्छे नतीजे भी सामने आ रहे हैं। जिस पर ध्यान देने की जरूरत है। दरअसल मध्यप्रदेश में कोरोना की रफ्तार भले ही तेज हो लेकिन इसके साथ ही साथ रिकवरी रेट (recovery rate) में भी हर दिन सुधार नजर आ रहा है।

दरअसल बीते 5 दिनों में 32 हजार से अधिक संक्रमित मरीज कोरोना से जंग जीतकर अपने घर वापस लौटे हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों की माने तो 5 दिन में 32,294 लोग पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर घर वापस लौटे हैं। जिनमें 15 अप्रैल को 3970, 16 अप्रैल को 7496, 17 अप्रैल को 6997, 18 अप्रैल को 7495 और 19 अप्रैल को 6836 मरीज के स्वस्थ होने की जानकारी सामने आई है।

Read More: परंपरा: कोरोना को खत्म करने अष्टमी पर उज्जैन में नगर पूजा, कलेक्टर ने देवी को चढ़ाई शराब 

ऐसी विकट परिस्थिति में जहां हर तरफ संक्रमण की खबर सामने आ रही है। वहीं मौत के आंकड़े बढ़ते नजर आ रहे हैं। इस बीच प्रदेश की जनता के लिए यह राहत भरी बात है। रिकवरी रेट में लगातार सुधार हो इसके लिए कई मरीजों को होम आइसोलेशन की सुविधा के साथ-साथ प्रशासन की तरफ से डॉक्टर और चिकित्सक उपलब्ध कराए जा रहे हैं। वही आंकड़ों की माने तो होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीज अधिक तेजी से संक्रमण से जंग जीत रहे हैं।

कोरोना की दूसरी लहर में लगातार मरीजों की संख्या में वृद्धि हो रही है लेकिन राहत की बात यह है कि उससे आधी मरीज स्वस्थ होकर वापस अपने घर भी लौट रहे हैं। जहां बीते दिनों की बात कर तो 18 अप्रैल को मध्यप्रदेश में 12,248 नए मामले सामने आए थे लेकिन 7495 लोग ने कोरोना को मात दी। वही 19 अप्रैल को 6836 लोग स्वस्थ होकर वापस घर लौटे।

इधर राज्य सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण के हालात पर लगातार बैठक की जा रही है। वहीं प्रदेश में रिकवरी रेट में तेजी से सुधार हो। इसकी तरफ सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। प्रदेश में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ रहे है। लेकिन लोगों के स्वस्थ होने की रफ्तार भी जारी है ।राज्य सरकारों की माने तो लगातार मास्क लगाए रखने, सैनिटाइजर उपयोग करने और 2 गज की दूरी का पालन करने वाले लोग कम संक्रमित हो रहे हैं या संक्रमण की चपेट से बचते नजर आ रहे हैं।