भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। भोपाल की सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर (Bhopal MP Sadhvi Pragya Thakur) अपने बयानों (Statements) को लेकर चर्चाओं में बनी रहती हैं। एक बार फिर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर  ( Sadhvi Pragya Thakur) ) अपने द्वारा दिए गए बयान को लेकर सुर्खियां बटोर रहीं है। सांसद साध्वी ने इस बार कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Congress leader Rahul Gandhi) के खिलाफ बयान देते हुए चर्चाओं के गलियारों को गर्म कर दिया है। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ( Sadhvi Pragya Thakur) ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर जमकर निशाना साधा है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर तंज कसते हुए कहा कि यह वह लोग हैं जिनका कोई धर्म नहीं है, ना ही इनकी कोई संस्कृति है और ना ही इतिहास। इनसे कोई लड़की शादी नहीं करना चाहती हैं, बच्चा बच्चा इनका मजाक बनाता है और इनकी मां इटली में बैठकर इन्हें पीएम (PM) बनाने के सपने देख रही हैं।

दरअसल, एक सभा को संबोधित करते हुए साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ( Sadhvi Pragya Thakur) ने कहा कि यह लोग सैनिकों को अपमानित करते हैं। कहते है कि किसान जरूरी है, हमें सीमा पर सैनिकों की आवश्यकता नहीं है। मतलब क्या है ये.. ये कैसी परिभाषा है, कुछ समझ ही नहीं आता। एक विवेक हीन व्यक्ति, जिसके पास ना कोई विवेक है, न कोई बुद्धि, जिसके पास कोई ज्ञान नहीं जिसके पास ना ही कोई गणित है ना ही कोई इतिहास, जिसकी कोई संस्कृति नहीं है, जिसका कोई धर्म ही नहीं है। ऐसा अधर्मी व्यक्ति कुछ भी बोलने लगता है। हमारा देश का बच्चा-बच्चा उस पर हंसता है।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ( Sadhvi Pragya Thakur) आगे कहती हैं कि मैंने किसी चैनल में देखा था जहां कॉलेज में पढ़ने वाली लड़कियों से पूछा गया कि क्या वो ऐसे व्यक्ति से शादी करेंगी ? इतना मजाक बनाया उन लड़कियों ने उस व्यक्ति का। ऐसा व्यक्ति सपने देखता है और उसकी मां भी इटली में बैठकर सपने देखती हैं कि उनकी औलाद प्रधानमंत्री बनेगी। यह सनातनी राष्ट्र है, यहां राष्ट्रभक्ती पैदा नहीं की जाती है शुरुआत से ही आती है।

प्रज्ञा ठाकुर आगे कहती हैं कि किसान अन्नदाता है और देश का जवान देश की सीमा पर खड़े होकर देश की रक्षा करता है। जवान की भूमिका देश की रक्षा करना है इसलिए वो देशभक्त (Patriot) कहलाता है। वहीं प्रज्ञा ठाकुर किसानों (Farmers) को लेकर कहती हैं कि किसान का काम खेती किसानी और हमारा पेट भरना है। हर किसी का अपना अपना एक स्थान होता है और वही उनका सर्वश्रेष्ठ स्थान होता है।

हर किसी के दिल में राष्ट्र के लिए सम्मान की भावना होनी ही चाहिए लेकिन कुछ दो मुंहे लोग जो कहते हैं कि किसान जरूरी है, किसान सही तो हमें सीमा पर सैनिकों (Soliders) की आवश्यकता (Need) नहीं है इसकी क्या परिभाषा है। भोपाल सांसद साध्वी कहती हैं कि एक तो भारत का ही खाते हो और भारत का ही पीते हो और तो और यही इलाज कराते हो। यही घूमते फिरते हो, सब कुछ यहीं करते हो, लेकिन निष्ठा किसी और देश के लिए रखते हो यह कोई भी देशभक्त नहीं सहन करेगा। ऐसे लोगों को चुन चुन कर निकाला जाना चाहिए।