पूर्व विधायक का भाई रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार, सरपंच पत्नी पर भी कार्रवाई

खरगोन।

मध्यप्रदेश के खरगोन जिले में लोकायुक्त की टीम ने पूर्व विधायक विजयसिंह सोलंकी  का भाई और ग्राम पंचायत सरपंच संजना सोलंकी के पति भूपेन्द्र सोलंकी को रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया है।आरोप है कि सोलंकी ने फरियादी से पीएम आवास की राशि स्वीकृत कराने के लिए मांगे रिश्वत की मांग की गई थी। इंदौर लोकायुक्त पुलिस ने उन्हें घर से राशि सहित गिरफ्तार किया है। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

दरअसल, भगवानपुरा के पूर्व विधायक विजयसिंह सोलंकी के चचेरे भाई भूपेंद्र सोलंकी (45) को सोमवार लोकायुक्त पुलिस ने पांच हजार रु. की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। सेगांव सरपंच संजना सोलंकी का पति होने का फायदा उठाते हुए भूपेंद्र ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत स्वीकृत 1 लाख 35 हजार रु. की राशि के एवज में रिश्वत मांगी थी। इसके बाद दोनों के बीच 30 हजार रुपए देने की बात तय हुई थी। इसमें पांच हजार रुपए पहले दे चुके हैं। दूसरी किस्त के लिए सोमवार दोपहर को 1 बजे मिश्रीलाल को भूपेंद्र ने अपने घर बुलाया। इसकी शिकायत फरियादी मिश्रीलाल गुप्ता ने इंदौर लोकायुक्त से की थी और टीम ने योजना बनाई। गुप्ता से भूपेंद्र सोलंकी ने जैसे ही 5 हजार रु. लेकर पेंट की जेब में रखे तो लोकायुक्त ने उसे पकड़ लिया। भूपेंद्र के हाथ व नोट गुलाबी हो गए।

डीएसपी प्रवीणसिंह ने बताया कि भूपेंद्र सोलंकी व सरपंच संजना सोलंकी पर भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा 7 के तहत कार्रवाई हुई है। उनसे सहमति पत्र लिया है। लोकायुक्त जब भी भूपेंद्र को बुलाएगी तो उन्हें हाजिर होना पड़ेगा। आरोपी भूपेंद्र बड़वानी जिले में उद्यानिकी विभाग में विस्तार अधिकारी भी है, हाल ही में उनका तबादला भिंंड हुआ है। ट्रांसफर के बाद से ही सोलंकी मेडिकल छुट्टी पर थे।वहीं पुलिस मामला दर्जकर आगे की जांच में जुट गई है।