शिवराज सिंह चौहान बोले- जिलों के पॉजिटिविटी रेट के आधार पर होगी कलेक्टरों की रैंकिंग

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना के लक्षण वाले व्यक्तियों को सही समय पर सही मार्गदर्शन उपलब्ध कराने के लिए जिला कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेंटर से उपयुक्त व्यवस्था करना आवश्यक है।

जबलपुर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में तेजी से बढ़ते आंकड़ों के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) का बडा बयान सामने आया है। शिवराज सिंह चौहान ने साफ कहा है कि कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की जिलों की पॉजिटिविटी रेट के आधार पर कलेक्टरों की रैंकिंग की जाएगी। सभी जिलों में 30 अप्रैल तक जनता कर्फ्यू (Corona Curfew) का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए। जिन जिलों में कोरोना संक्रमण अधिक है, वहाँ तत्काल किल कोरोना अभियान-2 आरंभ किया जाए।

यह भी पढ़े.. पीएम किसान सम्मान निधि: किसानों के लिए काम की खबर, जानें कब आएगी 8वीं किस्त

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान निवास से जिला कलेक्टरों (Collector) को वर्चुअली संबोधित कर रहे थे।उन्होंने कहा कि होम आयसोलेशन और कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए हरसंभव प्रयास हो। न्यूनतम लक्षण वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर उनकी जाँच, आवश्यक उपचार और आइसोलेशन की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्हें तत्काल मेडिकल किट (Medical Kit) उपलब्ध कराया जाए। होम आइसोलेशन (Home isolation) की पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने की स्थिति में कोविड केयर सेंटर में ऐसे व्यक्तियों को रखा जाए।

यह भी पढ़े..राहुल गांधी के कोरोना पॉजिटिव आने पर हरियाणा के मंत्री का तंज, कही ये बड़ी बात

इन सेंटरों पर डॉक्टर की विजिट, पर्याप्त स्टाफ, चाय, नाश्ता, भोजन आदि की व्यवस्था ऐसी हो कि लोगों में कोविड केयर सेंटर में सही देखभाल के लिए विश्वास स्थापित हो। इन सेंटरों पर एम्बूलेंस की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए, जिससे आवश्यक होने पर मरीजों को तत्काल अस्पताल शिफ्ट किया जा सके। कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने की दिशा में छिंदवाड़ा (Chhindwara), बुरहानपुर (Burhanpur), खण्डवा (Khandwa) आदि कई जिलों में अनुकरणीय कार्य हुआ है। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी कलेक्टर अपने-अपने जिलों में संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए आवश्यक सभी गतिविधियों का पूरी गंभीरता से पालन करें।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना के लक्षण वाले व्यक्तियों को सही समय पर सही मार्गदर्शन उपलब्ध कराने के लिए जिला कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेंटर से उपयुक्त व्यवस्था करना आवश्यक है। इससे लोग भटकने और भ्रम से बचेंगे। कुंभ (Kumbh 2021) से लौटने वाले व्यक्तियों तथा अन्य राज्यों से आने वाले श्रमिकों के आइसोलेशन के लिए गाँवों में पंचायत भवन, स्कूल (School) भवन आदि में भोजन सहित अन्य आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जाएँ। कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए यह आवश्यक है।

कोरोना कर्फ्यू लगाए जनता

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश के सभी नगरों, गाँवों, गली-मोहल्लों में जनता कर्फ्यू का क्रियान्वयन प्रभावी तरीके से सुनिश्चित किया जाए। इस प्रकार का वातावरण निर्मित किया जाए कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोग स्वयं आत्मानुशासन से व्यवहार करते हुए अपने गली-मोहल्ले, गांव में जनता कर्फ्यू लगाने और उसका पालन करने के लिए स्वयं प्रेरित हों। संक्रमण से स्वयं को और अपने गाँव और शहरों को बचाने के लिए यह आवश्यक है। जनता कर्फ्यू के प्रभावी क्रियान्वयन से प्रदेश में आगामी कुछ दिनों में संक्रमण की चेन तोड़ी जा सकती है।

एक्टिव केस 78 हजार के पार

बता दे कि 24 घंटे में 13,107 नए केस मिले हैं और 75 मरीजों ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। इन आंकड़ों के बाद प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 433704 हो गई है, इसमें से 78 हजार से ज्यादा एक्टिव केस है।वही मप्र सरकार द्वारा नई गाइडलाइन जारी की है, जिसमें भोपाल, इंदौर, उज्जैन समेत कई जिलों में सख्ती की गई है।