ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर्स के लिए विशेष योजना, मुख्यमंत्री ने डाली 10 हज़ार की ब्याज मुक्त ऋण राशि

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना काल (Corona) में शहरों और गावों में रास्तों में घूम-घूम कर व्यापार करने वाले छोटे-छोटे पथ विक्रेताओं व व्यवसायियों (Street Vendors And Businessmen) का काम-धंधा बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। लिहाजा केंद्र सरकार ने शहरी स्ट्रीट वेंडर्स के लिए प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना (Pradhanamntri Swanidhi Yojana) अंतर्गत 10 हजार रूपए के ऋण का प्रावधान किया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी आगे बढ़कर इस योजना में शेष ब्याज राज्य सरकार की ओर से दिए जाने की घोषणा की है। साथ ही मध्यप्रदेश के ग्रामीण क्षेत्र के स्ट्रीट वेंडर्स के लिए ‘मुख्यमंत्री ग्रामीण स्ट्रीट वेण्डर्स योजना’ (Mukhyamantri Gramin Street Vendor Yojana) की घोषणा की है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने आज मिंटो हॉल (Minto Hall) में प्रदेश के 10 हज़ार ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर्स के खाते में 10-10 हज़ार के ब्याज मुक्त लोन का अंतरण किया। उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के माध्यम से ग्रामीण पत्र विक्रेताओं से चर्चा की। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया (Mahendra Singh Sisodiya) और राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल (Ramkhelavan Patel) वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए। प्रदेश के अन्य जिलों में भी ऋण वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस योजना के तहत 20 हजार वेंडर्स को सरकार ऋण देगी।

आजीविका का अधिकार सबका अधिकार
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि आज पथ व्यवसायी भाई-बहनों के चेहरे पर मुस्कान देखकर मेरा मन बहुत प्रसन्न है। मुझे लग रहा है कि हम जिस उद्देश्य के लिए मुख्यमंत्री बने थे, वो उद्देश्य पूरा हो रहा है। गरीब कल्याण के कामों में सफलता मिल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आजीविका पर सबका अधिकार है। स्ट्रीट वेंडर्स के काम धंधे में आने वाली हर बाधा को दूर करने के लिए मैं प्रतिबद्ध हूं।

20 हज़ार से अधिक ग्रामीण पथ विक्रेताओं को मिला लाभ
मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश के पथ व्यवसायी पूरी ईमानदारी के साथ कार्य करते हैं। हमारी कोशिश रहेगी कि मध्यप्रदेश के प्रत्येक पथ विक्रेता बंधुओं को इसका लाभ मिले। इसकी गारंटी मेरी सरकार लेगी। शहरी ग्रामीण पथ विक्रेताओं के साथ मैंने ग्रामीण पथ विक्रेताओं को इस योजना का लाभ देने की योजना बनाई। मुख्यमंत्री ने कहा- ‘आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि आज तक 20 हजार से अधिक मेरे ग्रामीण पथ विक्रेताओं को येाजना का लाभ मिल चुका है’।

छोटे व्यापारियों का व्यवसाय नहीं छीनने देंगे
बड़ी कंपनियाँ अपने पैर पसार रही हैं। हम निवेश के विरोधी नहीं हैं लेकिन बड़ी कंपनियों को हम छोटे व्यापारी बन्धुओं का व्यवसाय छीनने नहीं देंगे। उन्होंने कहा- ‘मेरे पथ विक्रेता भाई-बहनों को कोई परेशान न कर सके, हम इसकी भी चिंता करेंगे। नगर निकायों और ग्राम पंचायतों को निर्देश दिये गये हैं कि इन्हें व्यवसाय करने में किसी तरह की समस्या न हो।’

ग्रामीण पथ विक्रेताओं को जारी होंगे परिचय पत्र
मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी ग्रामीण पथ विक्रेताओं को परिचय पत्र जारी किया जायेगा वे ताकि सम्मानपूर्वक अपना काम कर सकें। मुझे प्रसन्नता तब होगी, जब आप सम्मानपूर्वक काम करते हुए आनंद के साथ जीवन व्यतीत करेंगे। आपकी जिंदगी बदलना हमारी जिंदगी का मकसद है। हमारे पथ विक्रेता बन्धुओं के बच्चे अच्छी शिक्षा प्राप्त करें, आप समृद्ध हों और आपके जीवन में सकारात्मक बदलाव आए, हम यही चाहते हैं। आपका ब्याज हम चुका रहे हैं तो कोई एहसान नहीं कर रहे हैं, आपको आपका हक़ दे रहे हैं।

यह है योजना
मुख्यमंत्री ग्रामीण स्ट्रीट वेण्डर्स योजना के अंतर्गत 18 से 55 वर्ष की आयु वाले छोटे व्यवसायियों के लिए 10 हज़ार रुपए तक की कार्यशील पूंजी बिना कोई गारंटी एवं ब्याज दिए बैंक से प्राप्त होगी। लिए गए लोन का भुगतान 1 वर्ष के भीतर करना होगा। 1 वर्ष या इसके पूर्व लोन भुगतान करने पर अगले वर्ष व्यवसाय के लिए योजनांतर्गत 20 हज़ार रुपए तक का ब्याज मुक्त लोन प्राप्त हो सकेगा। इसके अलावा डिजिटल भुगतान करने पर हितग्राही को 12 हज़ार रुपए इंसेंटिव भी मिलेगा।