मप्र पंचायत चुनावों को लेकर नई अपडेट, कमेटी गठित, कलेक्टर-SP को बड़ी जिम्मेदारी

इसके अलावा कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी, निर्वाचन प्रक्रिया से संबंधित किसी भी महत्वपूर्ण बिन्दु पर चर्चा के लिए जब भी चाहें स्टेंडिंग कमेटी की बैठक आयोजित कर सकते हैं।

पंचायत चुनावों

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में पंचायत चुनावों (MP Panchayat Election 2021) की तारीखों का भले ही ऐलान ना हुआ हो, लेकिन चुनाव आयोग की तैयारियां जोरों पर चल रही है। संभावना जताई जा रही है कि दिवाली बाद कभी भी पंचायत चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है और नवंबर-दिसंबर के बीच मतदान कराए जा सकते है।इसी कड़ी में पंचायत आम निर्वाचन के लिए स्टेंडिंग कमेटी गठित कर दी गई है। इसमें कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी अध्यक्ष होंगे।

यह भी पढ़े.. SAHARA का एक और बड़ा फर्जीवाड़ा, बोगस कंपनियां बनाकर लोगों से धोखाधड़ी

राज्य निर्वाचन आयोग (state election commission) के सचिव बीएस जामोद ने जानकारी दी है कि राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन 2021-22 में पारदर्शिता और निष्पक्षता के लिए जिला स्तर पर स्टेंडिंग कमेटी का गठन किया गया है। स्टेंडिंग कमेटी के अध्यक्ष कलेक्टर (Collector) एवं जिला निर्वाचन अधिकारी होंगे। पुलिस अधीक्षक (SP), मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत और निर्वाचन से जुड़े अधिकारी जिन्हें जिला निर्वाचन अधिकारी आवश्यक समझे, सदस्य होंगे।

राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव बीएस जामोद ने बताया कि जिला स्तर पर गठित कमेटी की बैठक निर्वाचन की अधिसूचना जारी होने के पूर्व(मतदान केन्द्रों की सूची प्रकाशित होने के पूर्व) आयोजित की जाएगी। इसके अलावा कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी, निर्वाचन प्रक्रिया से संबंधित किसी भी महत्वपूर्ण बिन्दु पर चर्चा के लिए जब भी चाहें स्टेंडिंग कमेटी की बैठक आयोजित कर सकते हैं।

यह भी पढ़े.. आ रहा है फास्ट चार्जिंग वाला Redmi Note 11 Pro, लॉन्च से पहले प्राइस-फीचर्स लीक

बता दे कि प्रदेश की सभी जिला पंचायत, जनपद पंचायत और ग्राम पंचायतों, जिनका कार्यकाल पूरा हो चुका है और जिनका मार्च 2022 तक पूरा हो रहा है, का निर्वाचन करवाया जाएगा।इसके लिए मतदान तीन चरणों में होगा।राज्य निर्वाचन आयुक्त ने कलेक्टरों से कहा है कि आयोग के निर्देशानुसार रिटर्निंग एवं सहायक रिटर्निंग ऑफिसर की नियुक्ति जल्द करें। जिला पंचायत सदस्यों के नाम निर्देशन-पत्र जिला मुख्यालय, जनपद पंचायत सदस्यों के ब्लाक मुख्यालय और सरपंच तथा पंच के ब्लाक और क्लस्टर स्तर पर लिये जाएंगे। क्लस्टर का गठन 10-15 पंचायतों का समूह बनाकर किया जाएगा।