मप्र विधानसभा: चर्चाओं में PWD के 15 किलो का यह जवाब, मंत्रियों के बंगले सजाने में भी 4.58 करोड़ खर्च

मंदसौर से बीजेपी विधायक (BJP MLA) यशपाल सिंह सिसोदिया ने विधानसभा में इंदौर-उज्जैन संभाग की सड़कों को लेकर  एक सवाल लगाया था, जिसमें पूछा गया था कि इंदौर-उज्जैन संभाग (Indore-Ujjain Division) में PWD कुल कितनी टोल रोड पर कितने समय से टोल टैक्स (Toll Tax) वसूल रहा है?

मप्र विधानसभा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मप्र विधानसभा (MP Assembly) में आज बुधवार को बजट सत्र 2021 (Budget session 2021) का तीसरा दिन है और हंगामे के आसार बने हुए है। सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच सवालों के जवाबों को लेकर जमकर बहस देखने को मिल रही है। वही मंगलवार को मंदसौर (Mandsaur) से बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया(BJP MLA Yashpal Singh Sisodia) द्वारा लगाया गया एक सवाल और उस पर लोक निर्माण विभाग(Public Works Department-PWD) द्वारा भेजा गया 15 किलो का जवाब देशभर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

यह भी पढ़े.. BRIBE : लोकायुक्त के जाल में फंसा देवास का शिक्षक, रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार

दरअसल, मंगलवार को विधानसभा सत्र(MP Assembly Session) के दूसरे दिन मंदसौर से बीजेपी विधायक (BJP MLA) यशपाल सिंह सिसोदिया ने विधानसभा में इंदौर-उज्जैन संभाग की सड़कों को लेकर  एक सवाल लगाया था, जिसमें पूछा गया था कि इंदौर-उज्जैन संभाग (Indore-Ujjain Division) में PWD कुल कितनी टोल रोड पर कितने समय से टोल टैक्स (Toll Tax) वसूल रहा है? 1 जनवरी 2015 से अब तक सड़कों के खराब होने की कितनी शिकायतें हैं? इन सड़कों का ऑडिट कब-कब कराया गया? इन सड़कों के निर्माण (PWD) में पिछले 10 साल में कितनी राशि खर्च की गई?

विधानसभा की प्रश्नोत्तर सूची में यह सवाल 20वें नंबर पर था। इसलिए इस पर मंगलवार को सदन में चर्चा होनी थी।  इस पर लोक निर्माण विभाग के मंत्री गोपाल भार्गव ने भी लिखित में जवाब सिसोदिया को सोमवार देर रात उनके घर भेज दिया।हैरानी की बात तो ये है कि जवाब इतने पेज का था कि उसमें कुल वजन 15 किलो था। जब उनसे सवाल के जवाब के बारे मे जानकारी मांगी गई तो इस पर यशपाल सिसोदिया ने कहा कि 15 किलो के जवाब का अध्ययन एक रात में कैसे करता?

यह भी पढ़े.. MP College : मप्र के 350 प्रोफेसरों ने शासन से मांगी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति, ये है बड़ा कारण

विधानसभा के नियमानुसार, भले ही मंत्री (Minister) ने सवाल का जवाब दे दिया हो और विधायक ने इसे ना पढ़ा हो लेकिन इसकी चर्चाएं देशभर में हो रही है। संभवत: यह पहला मौका है जब किसी विभाग ने अपने ही विधायक (MLA) के सवाल पर 15 किलो का जवाब भेजा हो।

सीएम हाउस के साथ मंत्रियों के बंगले सजाने पर 4.58 करोड़ खर्च

वही विधायक पांचीलाल मेड़ा के एक प्रश्न “मंत्रियों के बंगलों को सजाने पर खर्च’ के उत्तर में मंत्री गोपाल भार्गव ने जवाब दिया है कि 10 महीने यानि 1 अप्रैल 2020 से 31 जनवरी 2021 तक में 4.58 करोड़ से ज्यादा खर्च किए गए हैं। सबसे ज्यादा एक करोड़ रुपए सीएम हाउस (CM House) पर खर्च हुए हैं। इसके बाद सबसे अधिक 56 लाख रुपए पीडब्ल्यूडी मंत्री (PWD Minister) गोपाल भार्गव के बंगले की साज-सज्जा में लगे हैं।

इसमें केवल सिविल वर्क देखा जाए तो मुख्यमंत्री निवास , गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा(Home Minister Narottam Mishra) , नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह(Urban Administration Minister Bhupendra Singh), स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी, सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया और परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत , खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया और पूर्व मंत्री इमरती देवी का बंगला भी शामिल है। वही मुख्यमंत्री का एक अन्य बंगला बी-8 74 बंगला भी शामिल है, जिसमें 13.41 लाख का काम हुआ है।