BRIBE : लोकायुक्त के जाल में फंसा देवास का शिक्षक, रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार

आरोप है कि शिक्षक (Teacher) ने मध्यान भोजन के ठेके को आगे बढ़ाने के लिए रिश्वत की मांग की थी। यह कार्रवाई उज्जैन लोकायुक्त द्वारा की गई है।

Bribe

देवास, सोमेश उपाध्याय। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के देवास (Dewas) जिले में लोकायुक्त (Lokayukt Police) ने बड़ी कार्रवाई की है। टीम ने स्कूल शिक्षा विभाग(School Education Department)  के एक अधिकारी को रिश्वत (BRIBE) लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार (Arrest) किया है। आरोप है कि शिक्षक (Teacher) ने मध्यान भोजन के ठेके को आगे बढ़ाने के लिए रिश्वत की मांग की थी। यह कार्रवाई उज्जैन लोकायुक्त द्वारा की गई है। आरोपी शिक्षक पर भ्रष्टाचार अधिनियम  (Corruption Act) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़े.. Bribe : मप्र में लोकायुक्त का शिकंजा, बिजली विभाग का जेई रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार

लोकायुक्त पुलिस उज्जैन ने आज घूस लेने के मामले एक बड़ी कार्यवाही को अंजाम दिया है। लोकयुक्त की टीम ने नेवरी फाटा पर स्कूल शिक्षा विभाग के समन्वयक पद पर कार्यरत वरिष्ठ शिक्षक  को रंगे हाथों रिश्वत लेते पकड़ा है। आरोपी ने मध्यान भोजन के ठेके को आगे बढ़ाने के लिए पाँच हजार की रिश्वत (BRIBE) की सिफारिश की थी।

पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त शैलेंद्र सिंह चौहान को आवेदक शिवनारायण मालवीय निवासी नराना ने शिकायत की उसकी पत्नी का उमंग स्व सहायता समूह शासकीय माध्यमिक विद्यालय नराना में मध्याह्न भोजन बनाने का ठेका है। जिसे आगे बढ़ाने के लिये आरोपी जीवनसिह विकास खंड स्रोत समन्वयक सोनकच्छ द्वारा पाँच हजार के रिश्वत (BRIBE) की माँग की और एक हजार सोमवार को ले लिये और आज चार हजार की राशि लेने के लिए बुलाया था।

यह भी पढ़े..MP College : मप्र के 350 प्रोफेसरों ने शासन से मांगी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति, ये है बड़ा कारण

नेवरी फाटे पर चार हजार की रिश्वत लेते निरीक्षक बसंत श्रीवास्तव की टीम ने रंगे हाथों पकड़ा । आरोपी आवेदक को मोटर साइकिल पर बिठा कर पहले नराना लेकर गया फिर नेवरी फाटे पर रिश्वत (BRIBE) की राशि लेकर उतारा तभी टीम ने दबोच लिया। आरोपी पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा रही है।

मिली जानकारी के अनुसार, जीवन ने 22 फरवरी को एक हजार रुपए बतौर एडवांस भी ले लिया थ और कहा था कि बाकी के चार हजार रुपए लेने के बाद ही ठेके की तारीख आगे बढ़ाएंगे। इसकी शिकायत मिलने के बाद फरियादी शिवनारायण और आरोपी जीवन सिंह के बीच मोबाइल फोन पर हुई बातचीत को एक विशेष इंस्ट्रूमेंट के माध्यम से रिकॉर्ड कराई गई। जिसमें जीवन सिंह घूस लेने की बात साफ तौर पर बोलते सुनाई दे रहे हैं।