MP Board : इस दिन जारी होगी 10 वीं और 12 वीं परीक्षाओं को लेकर समय सारणी

MP Board द्वारा अब तक 10वी और 12वीं (10th and 12th) की परीक्षाओं को लेकर समय-सारिणी और दिशा-निर्देश जारी नहीं किए गए, जिसके चलते छात्रों को परेशानी हो रही है।

mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में बोर्ड परीक्षाएं (Board Exam) अप्रैल में आयोजित की जाएंगी, लेकिन इसके पहले एक बार फिर छात्रों के सामने बड़ी परेशानी खड़ी हो रही है। मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (Madhya Pradesh Board of Secondary Education or MP Board) द्वारा अब तक 10वी और 12वीं (10th and 12th) की परीक्षाओं को लेकर समय-सारिणी और दिशा-निर्देश जारी नहीं किए गए, जिसके चलते छात्रों को खासी परेशानी हो रही है वे विषयों के अनुसार समय प्रबंधन की समय-सारिणी नहीं बना पा रहे हैं।

यह भी पढ़े… MP Board: 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा से पहले छात्रों को बड़ा झटका

दरअसल, MP Board द्वारा हर साल मार्च में बोर्ड परीक्षाएं आयोजित होती है और दिसंबर के पहले हफ्ते में समय-सारिणी जारी कर दी जाती है, लेकिन कोरोना के चलते इस बार परीक्षाएं अप्रैल में आयोजित हो रही है और समय-सारिणी फरवरी में जारी की जाएगी।खबर है कि 29 जनवरी को मंडल के परीक्षा समिति की बैठक होने वाली है, इसके बाद समय-सारिणी जारी की जा सकती है।

हेल्पलाइन भी हुई बंद
वही दूसरी तरफ 10वीं और 12वीं के लिए चलाई जाने वाली हेल्पलाइन सुविधा (Helpline) को कुछ कारणों के चलते माध्यमिक शिक्षा मंडल (MP Board) ने कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया है, जिसके चलते छात्रों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, हालांकि मंडल अधिकारियों का कहना है कि इसे जल्द ही शुरु किया जाएगा।बता दे कि इस हेल्पलाइन की मदद से छात्र परीक्षा संबंधित समस्याओं को लेकर शिकायत तक दर्ज करवाते है ।

यह भी पढ़े… MP Board : 12वीं के छात्रों के लिए खुशखबरी, मिलेगा एक लाख का पुरस्कार

गौरतलब है कि एमपी बोर्ड (MP Board) द्वारा 10वीं और 12वीं की दो बार परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी। पहली 30 अप्रैल से 15 मई तक और दूसरी परीक्षा 1 से 15 जुलाई तक आयोजित होगी। इसमें ऑनलाइन और ऑफलाइन (Online-Ofline ) दोनों के ऑप्शन होंगे, इसके लिए छात्रों को आवेदन करना होगा। इस बार कुछ विषय कम होने से 35 दिन के बदले 16 दिन में परीक्षा समाप्त होगी। साथ ही मूल्यांकन अवधि में भी 10 से 15 दिन की बचत होगी। इसका कारण यह है कि 4 भाषाओं के विशिष्ट और सामान्य भाषा के 8 पेपर के बदले 4 पेपर ही होंगे।