Metro Project: तुलसी सिलावट ने की प्रोजेक्ट को शुरु करने की मांग, भूपेन्द्र सिंह बोले- 15 अगस्त के बाद

भूपेंद्र सिंह ने कहा कि प्रथम चरण में येलो लाइन का 31 .54 किलोमीटर लंबाई का मेट्रो ट्रैक बनना है जिसमें गांधीनगर से सुपर कॉरिडोर, भोरासला चौराहा, रेडिसन चौराहा, मुमताज बाग कॉलोनी से रेलवे स्टेशन और स्टेशन से गांधीनगर तक मेट्रो ट्रेन (Metro Train) का काम तीव्र गति शुरू होगा।

metro

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आगामी चुनावों से पहले एक बार फिर मध्य प्रदेश (Madhya Prades) में मेट्रो की गति मिलने वाली है।जल संसाधन मछुआ कल्याण और मत्स्य विकास मंत्री तुलसी सिलावट ने आज बुधवार को भोपाल में नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह से मुलाकात कर इंदौर मेट्रो परियोजना (Indore Metro Project) के संबंध में चर्चा की ।इस मौके पर सिंह ने कहा कि सभी आवश्यक कामों के टेंडर कर दिए गए हैं और 15 अगस्त (15 August 2021) के बाद सभी काम शुरू किए जाएंगे। स्टेशन, अंडरग्राउंड स्टेशन, एलिवेटेड स्टेशन, डिपो, विद्युत लाइन ट्रांसमिशन, और कनेक्टिविटी स्टेशन की ड्राइंग और निर्माण के लिए टेंडर कर अनुबंध किया जा रहा है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: अगले 24 घंटे में इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, बिजली गिरने के भी आसार

जल संसाधन मछुआ कल्याण और मत्स्य विकास मंत्री तुलसी सिलावट (Minister Tulsi Silavat) ने भोपाल में नगरीय प्रशासन मंत्री  भूपेंद्र सिंह से भेंट कर इंदौर मेट्रो परियोजना के संबंध में चर्चा की। तुलसी  सिलावट ने कहा कि इंदौर में मेट्रो प्रोजेक्ट (Metro Project Indore) में काम लंबित है। सभी कामों की समय सीमा निर्धारित की जाए। नगरीय प्रशासन मंत्री सिंह ने बताया कि गांधीनगर से मुमताज बाग येलो लाइन का काम शुरू होकर दिसंबर 2023 तक पूर्ण किया जाएगा। मुमताज बाग से रेलवे स्टेशन का काम अप्रैल 2024 तक पूरा किया जाने के निर्देश दिए गए हैं इसके साथ ही गांधीनगर से रेलवे स्टेशन का मेट्रो के काम मई 2025 तक पूर्ण किया जाएगा।

यह भी पढ़े..Balaghat News: लोकायुक्त के जाल में फंसा पटवारी, 10 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार

मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि इंदौर मेट्रो परियोजना में मेट्रो के प्रथम चरण में 31 किलोमीटर लंबाई की मेट्रो ट्रैक निर्माणाधीन है । जिसमें 24 किलोमीटर से अधिक लंबाई में एलिवेटेड मेट्रो ट्रैक और 7.48 किलोमीटर लंबाई का अंडरग्राउंड रेलवे मेट्रो ट्रैक बनाया जाना है जिसकी लागत 7500 करोड़ की है । जिसमें केंद्र सरकार (Center Government) और राज्य सरकार (MP Government) के 50: 50 के अनुपात में वित्तीय भार आना है। लगभग 440 करोड़ के काम PPP मोड पर किए जाना प्रस्तावित है। मेट्रो स्टेशन के लिए 30 स्थानों को चिन्हित किया गया है।गांधीनगर में मेट्रो के डिपो के लिए जगह आरक्षित है जिसका काम भी जल्दी ही शुरू कर दिया जाएगा।

नगरी प्रशासन मंत्री  भूपेंद्र सिंह (Bhupendra Singh) ने कहा कि प्रथम चरण में येलो लाइन का 31 .54 किलोमीटर लंबाई का मेट्रो ट्रैक बनना है जिसमें गांधीनगर से सुपर कॉरिडोर, भोरासला चौराहा, रेडिसन चौराहा, मुमताज बाग कॉलोनी से रेलवे स्टेशन और स्टेशन से गांधीनगर तक मेट्रो ट्रेन (Metro Train) का काम तीव्र गति शुरू होगा।  स्टॉक डिपो के लिए डिजाइन के अनुबंध किए जा चुके हैं विद्युत रिसीविंग और फूड डिसट्रीब्यूशन वितरण के डिजाइन कंसलटेंसी सेवा के लिए 5.99 करोड़ की लागत के अनुबंध हो चुके हैं। मेट्रो के अंडरग्राउंड स्टेशन, टनल्स, डिपो के लिए जिओ टेक्निकल इन्वेस्टिंग स्टडी के लिए भी अनुबंध हो चुके हैं विद्युत लाइन संशोधन और विस्थापन के लिए भी 50 करोड़ की लागत से कार्य किया जा रहा है।

येलो लाइन का जल्द पूरा होगा काम

तुलसी सिलावट से मंत्री भूपेंद्र सिंह ने बताया कि इंदौर मेट्रो की येलो लाइन को शीघ्र पूरा करने के लिए तीव्र गति से काम शुरू कराया जा रहा है। 421 करोड़ की लागत से सात एलिवेटेड मेट्रो रेल स्टेशन का डिजाइन निर्माण के लिए फरवरी 20 में ही टेंडर किए जा चुके हैं। इसी प्रकार इंटरफेयर लोकेशन और डिपो कनेक्टिविटी और 9 एलिवेटेड स्टेशन की डिजाइन के लिए 1000 करोड़ की निविदा मार्च में जारी की जा चुकी है। अनुबंध की प्रक्रिया जारी है। 15 अगस्त के बाद सभी कार्य स्थलों पर तीव्र गति से काम शुरू कर दिए जाएंगे।