तुलसी सिलावट

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdesivir) मामले में जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट (Tulsi Silawat) का बड़ा बयान सामने आया है जिसमें उन्होने कहा है कि वे किसी भी जांच के लिए तैयार हैं। उन्होने कहा कि मैं चुनौती देता हूं कि इसकी पूरी जांच होनी चाहिए और जो दोषी पाया जाए उसपर रासुका (NSA) लगाई जाए।

शिवपुरी : किसानों का आरोप, गेहूं खरीदी केंद्रों पर चल रही खुलेआम लूट

खुद को निर्दोष बताते हुए उन्होने कहा कि अगर अनुबंध का मेरा कोई ड्रायवर किसी का मर्डर कर देगा तो क्या हत्या का मामला तुलसी सिलावट पर दर्ज होगा क्या। सिलावट ने कहा कि मैं चुनौती देता हूं और खुद कह रहा हूं कि मैं दोषी के खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई करूंगा। वहीं पूर्व मंत्री उंमग सिंगार पर लगे आरोपों को लेकर उन्होने दिग्विजय सिह पर भी निशाना साधा और कहा कि मेरे खिलाफ तो दिग्विजय सिंह ने ने ट्वीट कर दिया लेकिन उंगम सिंगार को लेकर वो अब तक सामने क्यों नहीं आए हैं।

बता दें कि रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी में मंत्री तुलसी सिलावट की पत्नी के ड्राइवर का नाम आने के बाद इस मामले में सियासत गरमा गई है और कांग्रेस मंत्री से नैतिकता के आधार पर तत्काल इस्तीफे की मांग कर रही है। सोमवार को विजय नगर की पुलिस ने पुनीत अग्रवाल नाम के व्यक्ति को रेमडेसिवीर इंजेक्शन ब्लैक में बेचते हुए पकड़ा था। पुनीत अग्रवाल इंपैक्ट नाम की ट्रैवल एजेंसी में काम करता है और जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा.पूर्णिमा गडरिया का वाहन चलाता है जो पिछले दिनों कलेक्टर मनीष सिंह के साथ हुए विवाद के कारण सुर्खियों में आई थी। विजय नगर की पुलिस ने उसे 15000 रूपये में रेमेडेसिवीर इंजेक्शन बेचते हुए पकड़ा था। कोर्ट में जाने के पहले मीडिया से चर्चा के दौरान पुनीत ने बताया कि यह इंजेक्शन उसे एक अन्य ड्राइवर गोविंद राजपूत मुहैया कराता था जो मंत्री तुलसी सिलावट की पत्नी की गाड़ी चलाता है और उसी इंपैक्ट एजेंसी से जुड़ा हुआ है। पुनीत का बयान आने के बाद सियासी हलकों में तूफान मच गया। अब इस मामले में तुलसी सिलावट ने सामने आकर खुद को पूरी तरह निर्दोष बताते हुए कहा कि वे किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हैं।