Damoh By-election : क्या मप्र में बढ़ते कोरोना के बीच होगा दमोह उपचुनाव?

दमोह उपचुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। एक तरफ मध्य प्रदेश  में दिनों दिन कोरोना के आंकड़े तेजी से बढ़ते जा रहे है, कई जिलों में 19 अप्रैल तक लंबा लॉकडाउन लगाया गया है। वही दूसरी तरफ आज से एक हफ्ते बाद 17 अप्रैल को दमोह  उपचुनाव (Damoh By-election) होने है, राजनैतिक पार्टियों द्वारा एक के बाद एक बड़ी सभाएं और चुनावी रैलियां की जा रही है। हालांकि विपक्ष द्वारा मप्र सरकार और चुनाव आयोग (Election Commission) से  उपचुनाव स्थगित करने की मांग की गई है, लेकिन आचार संहिता (Code Of Conduct) के चलते शिवराज सरकार ने यह फैसला चुनाव आयोग पर छोड़ दिया है, ऐसे में सवाल खड़ा होता क्या MPPSC और NATA Exam 2021 की तरह कोरोना के बीच ही दमोह उपचुनाव करवाया जाएगा?

यह भी पढ़े.. इंदौर- उज्जैन के बाद मध्य प्रदेश के इन जिलों में भी 19 अप्रैल तक टोटल लॉकडाउन

दरअसल, पिछले 24 घंटे में पूरे मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 4986 नए केस आए और 24 की मौत हो गई,  जिसके बाद एक्टिव केस का आंकड़ा 32 हजार के पार हो गया है। वही शुक्रवार को आई स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, दमोह में 29 नए केस मिले है और जिसके बाद एक्टिव केसों की संख्या 226 हो गई है। अबतक 3294 लोग संक्रमित हो चुके है और 94 की मौत हो चुकी है।ये आंकडे चिंता पैदा करने वाले है।

आंकड़ों ने फिर चौंकाया: 24 घंटे में 1.45 लाख कोरोना पॉजिटिव, 794 मौतें, क्या लगेगा लॉकडाउन?

इतना ही नहीं दमोह उपचुनाव के लिए बीजेपी प्रत्याशी राहुल लोधी के लिए प्रचार के दौरान बीते दिनों पूर्व मंत्री जयंत मलैया और उनकी पत्नी सुधा मलैया, कैबिनेट मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और दमोह के कई नेता-कार्यक्रम संक्रमित हो चुके है। पिछले 9 दिनों 7 लोगों की मौत हुई है और 235 कोरोना के नए संक्रमित सामने आए हैं, ऐसे में 17 अप्रैल को होने वाले उपचुनाव को रद्द कराने की मांग उठ रही है। विपक्ष लगातार चुनाव आयोग और मप्र सरकार से मांग कर रहा है कि चुनाव की तारीखें  आगे बढ़ाई जाए। अब देखना है कि क्या चुनाव आयोग या मप्र सरकार निकाय चुनावों की तरह उपचुनाव की तारीख आगे बढाती है क्या फिर 17 अप्रैल को ही वोटिंग करवाई जाएगी..?

क्या दमोह में कोरोना नहीं फैल रहा- अरुण यादव

वही पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण यादव ने ट्वीट कर लिखा है कि शिवराज जी जवाब दीजिये क्या दमोह में कोरोना नहीं फैल रहा है? एक तरफ तो प्रदेश को लॉकडाउन कर गरीब मजदूरों को घरों में क़ैद करते है और दूसरी तरफ दमोह में घरों से बाहर निकलने का आह्वान करते है।

विवेक तन्खा -यह वक्त उपचुनाव क्यो?

शुक्रवार को ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा (Vivek Tankha) ने ट्वीट कर लिखा था कि क्या यह सत्य है की दमोह (Damoh) छोड़ पूरे प्रदेश में शुक्रवार से 60 घंटे का लॉकडाउन की घोषणा की गई है। डॉक्टर हर्षवर्धन (Dr. Harshvardhan) जी आपकी कथनी और करनी में यह अंतर क्यों। अगर चुनाव से कोरोना बढ़ रहा है तो यह वक्त उपचुनाव क्यों?

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: एक साथ 4 सिस्टम एक्टिव, मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार

वही विवेक तन्खा ने चुनाव आयोग (Election Commission)और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) से सवाल किया था कि प्रदेश की जनता इस क़हर के प्रकोप में झुलस रही है और प्रशासन की प्राथमिकता उपचुनाव है। चुनाव आयोग और मप्र सरकार जनता की दोस्त है या दुश्मन। प्रदेश जल रहा है और नीरो कंचे खेल रहा है। उपचुनाव स्थगित करिए। इस वक्त सिर्फ़ और सिर्फ़ अस्पताल , मरीज़ , दवा , वैक्सीन और जनता के कष्ट निवारण होना चाहिए।