World Mental Health Day : विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस ”समस्याओं के गहराते अंधरे और हमारा मन’

World Mental Health Day : आज विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस है। मानसिक स्तर पर स्वस्थ रहने की सिर्फ़ 4 कसौटियां हैं– जीवन के तनावों का सामना करने की ताकत का होना; अपनी क्षमताओं का ज्ञान होना; अच्छे से सीखने और सीखे हुए का सही इस्तेमाल; अपने समुदाय में उचित योगदान करना। लेकिन इन चार कसौटियों पर खरे उतरना लगातार मुश्किल से और मुश्किल हुआ जाता है। 1952 में अमरीका ने मानसिक समस्याओं का अपना वर्गीकरण पैमाना बनाया जिसको डीएसएम – 1 कहते हैं (अमरीका विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि डब्लूएचओ के वर्गीकरण आईसीडी को नहीं मानता) जिसमें 128 प्रकार की मनोसमस्याओं को चिन्हांकित करते हुए उनको डायग्नोस करने के पैरामीटर्स निर्धारित किये। वर्ष 2013 में उक्त वर्गीकरण का पांचवा संस्करण आते आते मानसिक समस्याएं 541 हो गईं । यह बताता है कि पूंजीवादी व्यवस्थाओं के आधुनिकता और तरक्की के सारे शोरशराबों के बाबजूद सामान्यता का दायरा लगातार सिकुड़ रहा है और असमान्यताएं व्यापकता हासिल करती जा रही हैं ।

क्या है मानसिक स्वास्थ्य

मानसिक रोग की अनुपस्थिति भर को मानसिक स्वास्थ्य नहीं माना जा सकता बल्कि यह उससे कहीं आगे की बात है। हमारा मानसिक तौर पर स्वस्थ होना अपनी परिस्थितियों के बारे में सही समझ रखते हुए उनके प्रति उचित व्यवहार की क्षमता पर निर्भर करता है। यह एक जटिल निरंतरता है जो सभी के लिए अलग अलग होती है और सभी की अपनी सामाजिक-आर्थिक परिस्थितियों से निर्धारित होती है। आज भी चिकित्सा और मनोविज्ञान के जगत में मनुष्य के मन को निर्धारित करने वाले सामजिक, आर्थिक, राजनैतिक परिवेश को ज्यादा तवज्जो नहीं दी जाती बल्कि मानसिक स्वास्थ्य और मनोसमस्याओं के जैविक निर्धारकों पर ही बात होती है जो सर्वथा अनुचित है। चाहे पर्यावरण के मसले हों, राजनीति या हमारा व्यवहार, अक्सर अब लगता है दुनिया अपरिवर्तनीय क्षति की ओर बढ़ गई है और कुछ दीवाने या नासमझ  हैं कि उसमें सुधार की चेष्टाओं में अब तक लगे हैं। बकौल साहिर, “बहुत मुश्किल है दुनिया का संवारना, तेरी ज़ुल्फ़ों का पेच-ओ-ख़म नहीं है” !!!

Continue Reading

About Author
श्रुति कुशवाहा

श्रुति कुशवाहा

2001 में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर (M.J, Masters of Journalism)। 2001 से 2013 तक ईटीवी हैदराबाद, सहारा न्यूज दिल्ली-भोपाल, लाइव इंडिया मुंबई में कार्य अनुभव। साहित्य पठन-पाठन में विशेष रूचि।