Sleeping Position: अगर आपको भी पेट के बल सोना पसंद है तो हो जाएं सावधान, होते हैं ये 5 चौंकाने वाले नुकसान

Sleeping Position: क्या आप भी उन लोगों में शामिल हैं जिन्हे पेट के बल सोना पसंद है? अगर हां, तो सावधान हो जाइए! यह सोने की सबसे खराब स्थिति मानी जाती है और आपके स्वास्थ्य के लिए कई हानिकारक हो सकती है। आज ही इस आदत को बदलने का समय है, नहीं तो आपको इन 5 गंभीर नुकसानों का सामना करना पड़ सकता है।

sleep

Sleeping Position: सोना निश्चित रूप से ज़रूरी है, लेकिन कई बार हम आराम पाने के चक्कर में ऐसी मुद्राओं में सो जाते हैं जो सेहत के लिए हानिकारक हो सकती हैं।सोते समय अक्सर हम अपनी सुविधा का ही ध्यान रखते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपकी सोने की मुद्रा आपके स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती है? पेट के बल सोना, गर्दन में तकिया लगाकर करवट के बल सोना, या बहुत अधिक ऊंचे तकिए का इस्तेमाल करना, ये कुछ ऐसी आम गलतियां हैं जो अनजाने में ही हमें कई स्वास्थ्य समस्याओं की ओर धकेल सकती हैं। पेट के बल सोना सबसे खराब मुद्राओं में से एक मानी जाती है। यह रीढ़ की हड्डी, गर्दन, कंधों, पाचन तंत्र और चेहरे के लिए हानिकारक हो सकती है।

पेट के बल सोने से क्या-क्या नुकसान होते हैं

1. रीढ़ की हड्डी में दर्द और समस्याएं

पेट के बल सोना, नींद की सबसे कम अनुशंसित स्थिति है, खासकर अगर आपको रीढ़ की हड्डी में दर्द या समस्याएं हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस स्थिति में, आपका सिर, गर्दन और रीढ़ की हड्डी एक अस्वाभाविक स्थिति में मुड़ जाती है, जिससे उन पर अत्यधिक दबाव पड़ता है। यह दबाव दर्द, सूजन और मांसपेशियों में खिंचाव पैदा कर सकता है। गंभीर मामलों में, यह डिस्क हर्निया का कारण भी बन सकता है, जो रीढ़ की हड्डी की नसों पर दबाव डालकर तीव्र दर्द, झुनझुनी और सुन्नता पैदा कर सकता है। इसके अलावा, पेट के बल सोने से सांस लेने में तकलीफ हो सकती है, क्योंकि यह आपके डायाफ्राम पर दबाव डालता है। अगर आपको रीढ़ की हड्डी में दर्द या समस्याएं हैं, तो अपनी पीठ या करवट के बल सोने की कोशिश करना सबसे अच्छा है। आप अपने सिर और गर्दन को सहारा देने के लिए एक या दो तकिए का उपयोग कर सकते हैं, और अपनी रीढ़ की हड्डी को प्राकृतिक रूप से संरेखित रखने के लिए अपने घुटनों के बीच एक तकिया रख सकते हैं।

2. सांस लेने में तकलीफ

पेट के बल सोना, सांस लेने में तकलीफ का एक आम कारण हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस स्थिति में, आपका शरीर का वजन आपके डायाफ्राम पर दबाव डालता है। डायाफ्राम सिकुड़कर और फैलकर फेफड़ों को हवा अंदर और बाहर ले जाने में मदद करता है। जब आपके डायाफ्राम पर दबाव पड़ता है, तो यह पूरी तरह से फैलने में असमर्थ होता है, जिसके परिणामस्वरूप कम गहरी और कम कुशल सांसें लेता है। यह थकान, सिरदर्द और एकाग्रता में कठिनाई सहित कई समस्याओं का कारण बन सकता है। गंभीर मामलों में, पेट के बल सोने से नींद में खराटें भी आ सकते हैं। अगर आपको पेट के बल सोने के कारण सांस लेने में तकलीफ होती है, तो अपनी पीठ या करवट के बल सोने की कोशिश करना सबसे अच्छा है।

3. गर्दन और कंधों में दर्द

पेट के बल सोना, गर्दन और कंधों में दर्द का एक आम कारण हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस स्थिति में, आपका सिर एक तरफ मुड़ जाता है, जिससे आपकी गर्दन की मांसपेशियों पर अस्वाभाविक खिंचाव पैदा होता है। समय के साथ, यह खिंचाव दर्द, सूजन और मांसपेशियों में तनाव का कारण बन सकता है। इसके अतिरिक्त, पेट के बल सोने से आपके कंधों पर भी दबाव पड़ सकता है, खासकर अगर आप अपने सिर के नीचे तकिया रखते हैं। यह दबाव दर्द और कोमलता का कारण बन सकता है, खासकर कंधे के जोड़ों के आसपास। अगर आपको पेट के बल सोने के कारण गर्दन या कंधों में दर्द होता है, तो अपनी पीठ या करवट के बल सोने की कोशिश करना सबसे अच्छा है। आप अपनी गर्दन और कंधों को सहारा देने के लिए एक या दो तकिए का उपयोग कर सकते हैं, और अपनी रीढ़ की हड्डी को प्राकृतिक रूप से संरेखित रखने के लिए अपने घुटनों के बीच एक तकिया रख सकते हैं।

4. पाचन संबंधी समस्याएं

पेट के बल सोने से पाचन संबंधी कई समस्याएं हो सकती हैं, जिनमें शामिल हैं। पेट के बल सोने से पेट पर दबाव पड़ता है, जिससे अपच, पेट फूलना और गैस हो सकती है। पेट के बल सोने से पेट में एसिड का रिसाव हो सकता है, जिससे सीने में जलन और अपच हो सकती है। पेट के बल सोने से आंतों की गति धीमी हो सकती है, जिससे कब्ज हो सकती है। अगर आपको पाचन संबंधी समस्याएं हो रही हैं, तो अपनी पीठ या करवट के बल सोने की कोशिश करना सबसे अच्छा है।

5. चेहरे पर झुर्रियां

पेट के बल सोने से चेहरे पर झुर्रियां पड़ सकती हैं, खासकर अगर आप अपनी त्वचा को तकिए पर दबाते हैं। सोते समय चेहरे पर लगने वाला दबाव, त्वचा को खींचता और मोड़ता है, जिससे समय के साथ झुर्रियां और त्वचा में ढीलापन आ सकता है। इसके अतिरिक्त, पेट के बल सोने से रक्त प्रवाह कम हो सकता है, जिससे त्वचा को पोषक तत्व और ऑक्सीजन कम मिलता है। यह त्वचा को शुष्क और बेजान बना सकता है, और झुर्रियों की उपस्थिति को और भी बदतर बना सकता है। अगर आप चेहरे की झुर्रियों को कम करना चाहते हैं, तो अपनी पीठ या करवट के बल सोने की कोशिश करना सबसे अच्छा है। आप अपनी त्वचा पर दबाव कम करने के लिए सिल्क या साटन जैसे नरम कपड़े से बने तकिए का उपयोग करने का भी प्रयास कर सकते हैं।

डिस्क्लेमर – इस लेख में दी गई सूचनाएं सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। एमपी ब्रेकिंग इनकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ की सलाह लें।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।