नहर की खराब सफाई व्यवस्था को लेकर किसानों में आक्रोश, आला अधिकारियों पर लगाए आरोप

किसानों की मांग है कि अधिकारियों पर कार्रवाई की जाए और इस मामले को संज्ञान में लेकर जल्द साफ-सफाई कर खेत के लिये पर्याप्त पानी दिलाया जाए।

भिंड, सचिन शर्मा। मध्यप्रदेश के भिंड जिले (Bhind district) के गोहद क्षेत्र में किसानों के बीच नहर की साफ-सफाई को लेकर भारी आक्रोश है। गोहद के ग्रामीण किसानों का आरोप है कि हर साल सरकार के प्रावधन के तहत जल संसाधन विभाग द्वारा नहर की साफ-सफाई की व्यवस्था के लिए सरकार से राशि आती है लेकिन ऊंचे स्तर पर बैठे आला अधिकारी पहले ही इन पैसों को दबा लेते हैं जिसके कारण अब तक गांव के खेतों में लगे नहरों में साफ सफाई नहीं हो पाई है।

ये भी पढ़ें- ज्वेलर्स के घर में हुई चोरी में चौकानें वाला खुलासा, सहायक आबकारी अधिकारी निकला मास्टरमाइंड

मामले में गोहद क्षेत्र के किसानों का कहना हैं की कार्यपालन यंत्री द्वारा नहर की कोई साफ-सफाई नहीं की गई है। यहां नहर को पार्क बना दिया गया जिससे किसानों को आगे चलकर गेहूं की खेती व पलेवा करने में बहुत दिक्कत आएगी। जल संसाधन विभाग गोहद क्रमांक 02 में भी ऐसा नहर से माइनरों कि सफाई नहीं हुई है। किसानों का आरोप है कि इन माईनरों के रख रखाव और व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए विभाग द्वारा एक साल में दो बार पैसा आता है। लेकिन इस वर्ष भी सफाई नहीं कराई गई। इस मामले की शिकायत को लेकर अनुविभागीय अधिकारी और कार्यपालन यंत्री से किसान कई बार मिल चुके हैं लोकिन अब तक उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई। किसानों का कहना है कि आला अधिकारी ग्वालियर में रहकर विभाग चला रहे हैं। पिछले साल की तरह इस बार भी फसल पालने में काफी संकट हो सकता है। इसके संदर्भ में किसानों की मांग है कि अधिकारी जल्द इस मामले को संज्ञान में लें और साफ-सफाई कर किसानों को पर्याप्त पानी दिलाया जाए।