कोटा से अशोकनगर पहुंचे छात्र, अब मजदूर भी जा सकेंगे अपने घर

अशोकनगर|हितेन्द्र बुधौलिया।

मध्य प्रदेश सरकार के प्रयास से एजुकेशन हब बन चुके राजस्थान के कोटा शहर से प्रदेश भर में विद्यार्थी वापस आ गये है।इनमें अशोकनगर में भी 47 छात्र आज आ गए हैं। जिनकी स्क्रीनिंग की गई है ।सभी स्वस्थ्य पाये गये है।साथ ही भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के प्रयास से जिले में फंसे मजदूरों को उनके घरों में भेजने की व्यवस्था बनाई गई है।

कोटा से आए बच्चों को अशोकनगर शहर से 5 किलोमीटर दूर एक निजी संस्थान में स्क्रीनिंग के लिए रोका गया। जहां सभी बच्चों की स्क्रीनिंग की गई ।सभी बच्चे स्वथ्य पाये गये जिसके बाद इन्हें घर जाने की अनुमति दे दी गई।बच्चे उनके पालको को होम कोरेण्टाइन के लिए समझाइश दी गई है।

इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के गुना संसदीय क्षेत्र के सांसद डॉ के पी यादव एवं जिला अध्यक्ष उमेश रघुवंशी विशेष रूप से मौजूद रहे। इन नेताओं ने अशोकनगर जिले के छात्रों को वापस लाने में बड़ी भूमिका निभाई है। इस अवसर पर दोनों नेताओं ने बताया कि न केवल कोटा में फंसे बच्चों को लाया गया है बल्कि अशोकनगर में फंसे मजदूरों को उनके घर वापस भेजने की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए जिला प्रशासन से बात कर ली गई है ।फसल काटने के लिए प्रदेश के दूसरे जिलों से आए मजदूर जो बीते एक माह से यहा फंसे हुए थे उनकी घर वापसी की राह निकाल ली गई है। जल्द ही अपने-अपने घरों को भेजने की व्यवस्था की जा रही है।