लोकायुक्त का शिकंजा, रिश्वत लेते एएसआई रंगेहाथों ट्रैप

बालाघाट। बालाघाट जिले की किरनापुर तहसील की किन्ही पुलिस चौकी में पदस्थ एएसआई को लोकायुक्त ने रिश्वत लेते हुए धर दबोचा। एएसआई मुरलीधर कटरे ने उक्त राशि एक प्रकरण में फरियादी के भाई को बचाने के एवज में मांगी थी, जिसकी शिकायत लोकायुक्त में की गई। मंगलवार को लोकायुक्त की टीम ने योजनाबद्ध तरीके से कार्रवाई कर एएसआई को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ धर दबोचा।

इस संबंध में लोकायुक्त डीएसपी जेपी वर्मा ने बताया कि किरनापुर तहसील किन्ही पुलिस चौकी में पदस्थ सहायक उपनिरीक्षक (एएसआई) मुरलीधर कटरे ने नरेन्द्र पिता तिलकसिंह सैयाम उम्र 40 वर्ष निवासी कोदोबर्रा पोस्ट किन्ही से उसके भाई समेन्द्र सैयाम को झगड़े के केस से बाहर निकालने के लिए दस हजार रुपए की रिश्वत की मांग की थी। जिसके बाद सात हजार रुपए में सौदा तय हुआ। नरेन्द्र ने इस बात की शिकायत लोकायुक्त एसपी अनिल विश्वकर्मा से जबलपुर पहुंचकर की। इसके बाद मंगलवार को नरेन्द्र सैयाम ने एएसआई मुरधीधर कटरे को फोन किया तो एएसआई ने क्षेत्र में रहने वाले राजेन्द्र पंडित के घर बुला लिया। नरेन्द्र ने उक्त मकान में पहुंचा तो देखा कि एएसआई मुरलीधर पहले से बैठा है, जैसे ही नरेन्द्र ने रिश्वत की पहली किश्त पांच हजार रुपए एएसआई को दी, तभी लोकायुक्त डीएसपी जेपी वर्मा, इंस्पेक्टर आस्कर किंडो, आरक्षक शरण पांडे, अमित गावड़े, पंकज तिवारी व जीत सिंह ने दबिश देकर एएसआई को पकड़ लिया। लोकायुक्त टीम के हत्थे चढ़ते ही एएसआई मुरलीधर कटरे ने दौड़ लगा दी, एएसआई को भागते देख बाहर खड़े लोग भी स्तब्ध रह गए, किसी तरह एएसआई को पकडक़र लोकायुक्त टीम ने आगे की कार्यवाही की।