MP News : इलाज के लिए मजदूर को सूदखोर से उधार लेना पड़ा महंगा, मामला दर्ज

Amit Sengar
Published on -

Balaghat News : सूदखोरों का ब्याज इतनी तेजी से बढ़ता है कि पीड़ित चुका नहीं पाता। इस पर सूदखोर पीड़ित का उत्पीड़न करना शुरू कर देते हैं ऐसा ही मामला बालाघाट जिले के मॉयल क्षेत्र भरवेली से आ रहा है। जहाँ पीड़ित ने एक लाख रूपये के कर्ज पर 70 हजार चुका देने पर भी सूदखोर द्वारा एक लाख 90 हजार रूपये मांगे जाने पर भरवेली पुलिस में इसकी शिकायत की है। जिस पर पुलिस ने शिकायतकर्ता ओमप्रकाश यादव की शिकायत पर आरोपी भरवेली निवासी दीपक मंडिया के खिलाफ धारा 384 और मध्यप्रदेश ऋणियों का संरक्षण अधिनियम की धारा 3,4 के तहत अपराध पंजीबद्व कर जांच में लिया है।

यह है मामला

शिकायतकर्ता ओमप्रकाश यादव भरवेली मॉयल मे मजूदर है, जिसने पुलिस में की गई शिकायत में स्वीकार किया है कि मां और पत्नी की तबियत खराब होने पर इलाज के लिए उसने दीपक मंडिया से एक लाख रूपये उधार लिया था। जिसके ऐवज में उसने दा ब्लैंक चेक, एटीएम कार्ड और सौ रूपये के कोरे स्टॉम्प पेपर पर हस्ताक्षर करके दिया था। कर्ज की राशि में वह अब तक 70 हजार रूपये की राशि, दीपक मंडिया को दे चुका है।

सूदखोर पीड़िता को देता था धमकी

बावजूद इसके दीपक मंडिया कभी घर आकर तो कभी जहां मिलता है वहीं पर और बार-बार फोन करके कर्ज की राशि एक लाख 90 हजार रूपये देने के लिए दबाव बना रहा है। वह धमकी देता है कि ब्याज और मूलधन की राशि नहीं दिया तो चेक बाउंस का केस लगाकर वह उसे जेल भिजवा देगा। जससे वह मानसिक रूप से परेशान है। जिसमें पुलिस ने सूदखोर दीपक मंडिया के खिलाफ मामला दर्ज कर विवेचना में लिया है।
बालाघाट से सुनील कोरे की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News