बालाघाट पुलिस को मिली बड़ी सफलता, नक्सली विस्फोटक मामले में अब तक 16 गिरफ्तार

पुलिस की मानें तो लगभग डेढ़ साल पूर्व आरोपियों द्वारा नक्सलियों को सप्लाई की गई जिलेटिन रॉड भरवेली मॉयल के मजदूर के माध्यम से नक्सलियों को विस्फोटक और हथियार सप्लाई किये जाने वाले गिरोह को मिली थी।

बालाघाट, सुनील कोरे। नक्सलियों (Naxalites) को विस्फोटक सप्लाई मामले की विवेचना कर रही बालाघाट पुलिस (Balaghat Police) की विवेचना जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे नये खुलासे हो रहे है। अबकी बार पुलिस ने शराब व्यवसायी, गोंदिया के पूर्व पार्षद, बोरवेल खननकर्ता, बालाघाट भरवेली में रहे मॉयल मजदूर सहित कुल 6 आरोपियों की गिरफ्तारी की है। जिनसे पूछताछ में पुलिस को नक्सलियों को सप्लाई की गई जिलेटिन रॉड का पता चला है और नक्सलियों को 5 लाख रूपये भिजवाये जाने की जानकारी मिली है। पुलिस की मानें तो लगभग डेढ़ साल पूर्व आरोपियों द्वारा नक्सलियों को सप्लाई की गई जिलेटिन रॉड भरवेली मॉयल के मजदूर के माध्यम से नक्सलियों को विस्फोटक और हथियार सप्लाई किये जाने वाले गिरोह को मिली थी। जिस जिलेटिन रॉड को गिरोह, नक्सलियों को सप्लाई कर चुका है। वहीं बीते जून 2021 में 18 से 20 के बीच पूर्व में पकड़ाये गये आरोपी घनश्याम के माध्यम से शराब ठेकेदार महाराष्ट्र देवरी निवासी देवराज गुणेकर ने दो बार में 5 लाख रूपये की राशि नक्सलियों को पहुंचाई थी।

यह भी पढ़ें… गंजबासौदा हादसे के बाद जागा इटारसी प्रशासन, शहर के सभी कुओं का किया निरिक्षण

गौरतलब हो कि बालाघाट पुलिस ने गत 7 जुलाई को नक्सलियों को विस्फोटक और सामग्री सप्लाई करने वाले गिरोह के 8 सदस्यों को गिरफ्तार करने के बाद मीडिया के सामने इस पूरे मामले का खुलासा किया था। जिसके बाद मामले की विवेचना कर रही पुलिस लगातार आरोपियों की धरपकड़ कर रही है। जहां इस मामले में पूर्व में गिरफ्तार किये गये आरोपी गोंदिया निवासी घनश्याम पिता शिवलाल आंचले के घर से पुलिस ने काफी मात्रा में लगभग 496 की संख्या में एके-47 के राउंड, एक पिस्टल, 24-25 नग मल्टीफंक्शनल टॉर्च और लग 16-17 की संख्या में मोबाईल चार्जर बरामद किये थे, वहीं उससे पुलिस को वचन खंडारे के बारे में पता चला था। जिसमें पुलिस ने गोंदिया जिले के आमगांव निवासी वचन खंडारे के साथ ही विस्फोटक और हथियार सप्लाई मामले में संलिप्त पाये गये किरनापुर थाना क्षेत्र अंतर्गत बोरबन निवासी वरजूर उईके को गिरफ्तार किया था। हालांकि पुलिस ने गिरफ्तार दोनो ही आरोपियों में वचन खंडारे को मामले से जुड़ी जानकारियों में पूछताछ के लिए पुलिस रिमांड पर लिया था। जिससे पुलिस को अहम जानकारी मिली है। इस पूरे मामले में अब तक पुलिस 16 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है।

वचन से मिली जानकारी पर पकड़ाये गये पांच आरोपी
आरोपी घनश्याम आंचले से पूछताछ में पुलिस को पता चला था कि वचन खंडारे के घर से एके-47 के राउंड साथ बरामद पिस्टल वचन खंडारे से ली थी। जिस पर जब आरोपी वचन खंडारे को गिरफ्तार कर पुलिस ने रिमांड पर लेकर पूछताछ की तो आरोपी वचन खंडारे ने बताया कि उसने पूर्व में घनश्याम को पिस्टल के साथ ही जिलेटिन रॉड भी दी थी। जिससे पुलिस को एक और बार जिलेटिन रॉड का पता चला। हालांकि पुलिस का मानना है कि उस जिलेटिन रॉड को लगभग डेढ़ साल पहले ही आरोपी नक्सलियों तक पहुंचा चुके है। आरोपी वचन लिल्हारे से की गई पूछताछ में उसने बताया कि पिस्टल मुझे बंटी बानेवार (गोंदिया का पूर्व पार्षद) ने दी थी और जिलेटिन रॉड बारू कुंभारे ने दी थी। जिससे मिली जानकारी पर पुलिस ने बंटी बानेवार और बारू कुंभारे को गिरफ्तार कर पिस्टल और जिलेटिन रॉड के बारे में पूछताछ की। बंटी बानेवार ने बताया कि बैधनाथ धाम बिहार घूमने गया था तब सालों पहले उसने पिस्टल किसी अज्ञात व्यक्ति से खरीदी थी। चूंकि अब उस व्यक्ति का उसे पता नहीं था, लेकिन नक्सलियों को सप्लाई की गई जिलेटिन रॉड को पता करना जरूरी था। जिस पर बारू कुंभारे ने बताया कि खननकर्ता राजेश पाटिल से मिली थी। जिस पर पुलिस ने कड़ी दर कड़ी आगे मामले की विवेचना में आगे बढ़ते हुए बोरवेल खननकर्ता राजेश पाटिल से पूछताछ की तो राजेश पाटिल ने बताया कि उसके बड़े भाई अशोक पाटिल ने उसे दिलवाया था। जिसके बाद पुलिस ने अशोक पाटिल को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की तो पुलिस को पता चला कि अशोक पाटिल ने बालाघाट निवासी भरवेली मॉयल मजदूर सुनील लिल्हारे से जिलेटिन रॉड लेना बताया।

मॉयल मजदूर बूट में भरकर लाता था जिलेटिन रॉड
नक्सलियों को विस्फोटक और हथियार सामग्री सप्लाई करने के मामले में पकड़े गये गिरोह के सदस्यों से पूछताछ के बाद पुलिस को विस्फोटक और हथियार सप्लाई में नई चैन का पता चला। जिसमें पकड़ाये गये गिरोह से बरामद जिलेटिन रॉड के अलावा अन्य जिलेटिन रॉड का पता चला तो पुलिस विस्फोटक जिलेटिन के आरोपियों तक पहुंचने के मामले की तलाश में जुट गई और जब पुलिस जिलेटिन रॉड की जानकारी के अंतिम छोर पहुंची तो पुलिस को पता चला कि चैनल के माध्यम से नक्सलियों तक पहुंचाई गई जिलेटिन रॉड गिरोह के लोगों तक मॉयल मजदूर के माध्यम से पहुंची थी। भरवेली मॉयल में काम करने वाले मॉयल मजदूर सुनील लिल्हारे ने बूट में भरकर बाहर लाई गई जिलेटिन रॉड को अशोक पाटिल के माध्यम से राजेश पाटिल और फिर यह जिलेटिन रॉड आरोपियों की चेन से होते हुए नक्सलियों को विस्फोटक और हथियार सप्लाई करने वाले गिरोह के सदस्य घनश्याम आंचले तक पहुंची थी। जो एक लंबी और नई कड़ी पुलिस के सामने निकलकर आई। जब पुलिस ने आरोपी सुनील लिल्हारे से पूछताछ की तो पता चला कि भरवेली मॉयल में ब्लॉस्टिंग के दौरान जो जिलेटिन राड, ब्लॉस्ट नहीं हो पाती थी, उसे मजदूर सुनील लिल्हारे, मलबा उठाने के दौरान अपने बूट में भरकर बाहर लेकर आ जाता था और वह उसे अशोक पाटिल को देता था, जिसके माध्यम से राजेश पाटिल से चेन से जुड़े लोगों के माध्यम से नक्सलियोें तक पहुंची है।

जिलेटिन रॉड के ब्लास्ट नहीं होने का पूरा खेल चार्जर का
पुलिस की मानें तो भले ही जिलेटिन रॉड ब्लास्ट नहीं हो सकी है लेकिन वह जिलेटिन रॉड भी उपयोगी है, जिसमें कैप चॉर्जर का खेल है, जो खराब होने के कारण जिलेटिन रॉड ब्लॉस्ट नहीं हो पाती है, यदि उसका चॉर्जर मिल जाये तो उसे विस्फोटक के रूप में उपयोग किया जा सकता है। पुलिस को आशंका है कि मॉयल मजदूर के माध्यम से जो जिलेटिन रॉड मॉयल भरवेली की चेनल के माध्यम से नक्सलियों तक पहुंची है, या तो नक्सलियों ने उसका उपयोग कर लिया है या फिर कभी भी विस्फोटक के रूप में उसका इस्तेमाल कर सकते है। हालांकि यह साफ नहीं हो सका है कि मॉयल मजदूर रहे सुनील लिल्हारे के पास से कितनी मात्रा में जिलेटिन रॉड आरोपियों के माध्यम से नक्सलियों तक पहुंचाई गई। जिसकी पुलिस जांच कर रही है। वहीं यह मॉयल की एक गंभीर लापरवाही भी उजागर करता है कि आखिर ब्लॉस्ट के बाद, ब्लॉस्ट नहीं होने वाली जिलेटिन रॉड को लेकर उसने गंभीरता को क्यो नहीं दिखाई?

शराब व्यवसायी ने नक्सलियों को दिये थे पांच लाख रूपये
पुलिस की मानें तो नक्सलियों को 5 लाख रूपये की आर्थिक फंडिंग महाराष्ट्र देवरी निवासी शराब व्यवसायी देवराज गुणेवार ने की थी। घनश्याम के माध्यम से यह दो बार में यह राशि नक्सलियों तक पहुंचाई गई थी। आरोपी घनश्याम से मिली जानकारी के आधार पर शराब व्यवसायी देवराज गुणेवार को जब पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पुलिस को पता चला कि आरोपी देवराज द्वारा पहले डेढ़ लाख रूपये और फिर साढ़े तीन लाख रूपये नक्सलियों को पहुंचाने उसने घनश्याम को बीते 18 से 20 जून 2021 के बीच दिये थे। जो राशि घनश्याम के माध्यम से नक्सलियों तक पहुुंचा दी गई।

और भी आरोपियों की तलाश में पुलिस
नक्सलियों को विस्फोट और हथियार सप्लाई करने वाले गिरोह के पकड़ाये जाने के बाद पुलिस आरोपियों से बरामद विस्फोटक और हथियार सप्लाई के चेन को पकड़ने की तलाश कर रही थी, इस दौरान ही विवेचना के दौरान पुलिस को एक नई चेन के बारे में पता चला। जिसमें पुलिस ने नई चेन को तोड़ते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी की है, हालांकि पुलिस का कहना है कि पूर्व में पकड़ाये गये आरोपियों से विस्फोटक और हथियार बरामदगी मामले में विवेचना जारी है, जिसके लिए प्रदेश से बाहर टीमों को रवाना किया गया है। जिससे मामले में आगामी समय में और भी आरोपियों की गिरफ्तारी हो सकती है।

16 आरोपी गिरफ्ता
नक्सलियों को विस्फोटक और हथियार सप्लाई मामले में पुलिस ने पहले अपराध की धारा 120बी आईपीसी, 21,23,13(1) (ए) (बी) यूएपीए अधिनियम, 25 आर्म्स एक्ट और 4/5 विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत गिरोह के 8 सदस्यों महाराष्ट्र, मुंबई के ठाणे जिला अंतर्गत सुकरी पार्क सोसायटी विजयपथ मीरारोड़ ईस्ट निवासी 35 वर्षीय संजय चित्रोहा, ठाणे जिला अंतर्गत 001 बीएमआई निवासी 36 वर्षीय रोहित शिवा भाई बुटानी, महाराष्ट्र गोंदिया जिला अंतर्गत देवरी के परसोड़ी निवासी 34 वर्षीय घनश्याम आचले, 32 वर्षीय विजय कोरेटी, राजस्थान कोटा जिला अंतर्गत रामगंज मंडी के सुनेश निवासी 45 वर्षीय शाकिर खान शेरजंग खान, झालवाड़ जिला अंतर्गत पुरानी जेल निवासी 27 वर्षीय तौसीफ उर्फ राजा चौधरी, सालरापाटन निवासी 35 वर्षीय जितेन्द्र कुमार अग्रवाल, राजस्थान कोटा जिला अंतर्गत वाजिद 42 वर्षीय वाजिद चौधरी को गिरफ्तार किया था। जिसमें आरोपियों से पूछताछ में पुलिस ने गोंदिया जिले के आमगांव निवासी वचन पिता विजय खंडारे के साथ ही विस्फोटक और हथियार सप्लाई मामले में संलिप्त पाये गये किरनापुर थाना क्षेत्र अंतर्गत बोरबन निवासी वरजूर पिता गणेश उईके को गिरफ्तार किया। जिसके बाद पुलिस ने गोंदिया के पूर्व पार्षद बंटी बानेवार, बारू कुंभारे, राजेश पाटिल, अशोक पाटिल, बालाघाट भरवेली मॉयल मजदूर सुनील लिल्हारे और शराब व्यवसायी देवरी निवासी देवराज गुणेवार को गिरफ्तार किया है।

इनका कहना है
लांजी एसडीओपी दुर्गेश आर्मो का कहना है कि नक्सली विस्फोटक और हथियार मामले में आरोपी घनश्याम से पुलिस पूछताछ में उसके घर से एकके-47 के राउंड, पिस्टल, मल्टीफंक्शनल टॉर्च, दूरबीन और अन्य सामग्री बरामद की थी। जिसमें मिली पिस्टल को लेकर लेकर पूछताछ में आरोपी वचन खंडारे पकड़ाया था। जिससे पूछताछ में पुलिस को एक नई चेन और जिलेटिन सप्लाई की सामग्री की जानकारी मिली। जिसमें पुलिस ने पांच आरोपियों सहित नक्सलियों को आर्थिक मदद पहुंचाने के मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। साथ ही पूर्व में पकड़ाये गये आरोपियों से विस्फोटक और हथियार बरामदगी मामले में पुलिस की टीम बाहरी राज्यो में चेनल का पता करने में जुटी है, जिसमें आगामी समय में और भी आरोपियों को गिरफ्तार किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें…शिवपुरी: नदी में नहाने गई मामी-भांजी डूबी, मौत