महाराष्ट्र सीमा पर आने जाने वालों की स्क्रीनिंग शुरू, बसों को किया जा रहा सेनेटाइज

बैतूल। वाजिद खान। मध्य प्रदेश के पड़ोसी और बैतूल के सीमावर्ती प्रदेश महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच प्रशासन ने महाराष्ट्र जाने और उस ओर से आने वाली यात्री बसों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है। प्रशासन ने जिले के प्रभातपट्टन के रास्ते महाराष्ट्र से आने जाने वाले वाहनों पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही प्रशासन ने जिले की सीमा पर चिकित्सको का दल तैनात कर दिया है। यह दल महाराष्ट्र से आने जाने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग करेगा। परिवहन विभाग ने ट्रांसपोर्टर्स को करुणा से निपटने के लिए निर्देश दिए हैं कि वे अपनी बसों को सैनिटाइज करें यात्रियों के हाथों को सैनिटाइज करवाएं या हैंड वास करवाएं बसों की साफ सफाई और बसों में लगे पर्दे भी हटवाए इन निर्देशों को लेकर बस आपरेटर इसके लिए बसों को सेनेटाइज कर रहे है और बस में चढ़ने वाली यात्रियों के हाथों को सैनिटाइज किया जा रहा है । मध्य प्रदेश के परिवहन विभाग ने पूरे प्रदेश में अंतरराज्यीय बस सेवा पर रोक लगाई है जिनमें नियमित बसों के अलावा टूरिस्ट बस में भी शामिल है ।  इसके अलावा परिवहन कार्यालयों में स्थाई ड्रायविंग लायसेंस/लर्निग ड्रायविंग लायसेंस बनाने के प्रक्रिया पर भी  31 मार्च तक स्थगित कर दिया है। दरअसल बैतूल जिले के मुलताई में प्रति सप्ताह ।महराष्ट्र के वरुड़ अमरावती की ओर से सैकड़ो व्यापारी साप्ताहिक बाजार में।पहुचते है। इसके अलावा प्रभात पट्टन और सालबर्डी के धार्मिक स्थलों पर अभी भी प्रतिदिन सैकड़ो लोगो की महाराष्ट्र की ओर से आवाजाही लगातार बनी हुई है। प्रभात पट्टन और सालबर्डी में सैकड़ो।लोग महाराष्ट्र राज्य से अपने धार्मिक अनुष्ठानों के।लिए पहुच रहे है । चूकि महाराष्ट्र में इस समय सबसे अधिक संक्रमित मरीज पाए गए है।ऐसे में इस ओर से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग आवश्यक प्रतीत होती है। दो दिन पहले ही स्वास्थ्य विभाग ने महाराष्ट्र यात्रा को लेकर लोगो को सलाह भी दी थी कि बेहद जरूरी हो तभी वहां की यात्रा करे और सभी जरूरी एहतियात के पालन करे।