भिण्ड : बाल विमर्श कार्यक्रम के अंतर्गत बच्चों से ऑनलाइन जुड़े स्वास्थ्य और शिक्षा अधिकारी

स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ अजीत मिश्रा एवं जिला शिक्षा अधिकारी हरिभवन सिंह तोमर गूगल मीट के माध्यम से बच्चों से जुड़े।

भिण्ड, गणेश भारद्वाज। भिण्ड (Bhind) में केशव स्मृति सेवा न्यास द्वारा आयोजित बाल विमर्श कार्यक्रम में पांचवे दिन जिला स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ अजीत मिश्रा एवं जिला शिक्षा अधिकारी हरिभवन सिंह तोमर गूगल मीट के माध्यम से बच्चों से जुड़े। कार्यक्रम की अध्यक्षता शहर के समाजसेवी डॉ शैलेंद्र परिहार के द्वारा की गई। अतिथि द्वय परिचय समाजसेवी गणेश भारद्वाज के द्वारा दिया गया।

यह भी पढ़ें…शिवपुरी में सोमवार से नहीं खुलेगा बाजार, 1 जून तक कोरोना कर्फ्यू रहेगा जारी

सर्वप्रथम बच्चों को संबोधित करते हुए जिला स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ अजीत मिश्रा ने कहा कि वर्तमान दौर में हमारी जिम्मेदारी है, कि हम स्वयं को बीमार ना होने दें। यदि हम अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ायेगे तो हम बीमार नहीं होंगे। बच्चों को समझाइश देते हुए उन्होंने कहा कि सभी बच्चे स्वयं और अपने बड़ों को सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, एवं सैनिटाइजर का प्रयोग करते हुए पालन करवाएं। सभी घर में जो 18 वर्ष की आयु से अधिक से लोग हैं, उनको वैक्सीनेशन के लिए अवश्य प्रेरित करें। उन्होंने यह भी कहा कि यदि आपको स्वस्थ रहना है तो स्वच्छता पर भी ध्यान देना होगा। आप देश के भविष्य निर्माता हैं, आपके दिमाग में सरस्वती का निवास है। इसलिए आप देश के अच्छे नागरिक बने।

जिला शिक्षा अधिकारी हरभुवन सिंह तोमर ने कहा कि कोरोना काल में बच्चे मायूस थे। केशव स्मृति न्यास के द्वारा जो यह बाल विमर्श का अभिनव प्रयास किया गया है वह सराहनीय है। उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को कोड करते हुए कहा की हमें हमेशा बड़े सपने देखना चाहिए। हम लगन और मेहनत से पढ़ाई करें। किताबी कीड़ा ना बने। और पढ़ाई को इंजॉय समझ कर पढ़ाई करें। तोमर ने यह भी कहा कि हम तो चंबल के रहने वाले है। और चंबल का पानी अपनी राह स्वयं बना लेता है। उन्होंने बच्चों को यह भी समझाइश दी कि वे अपने माता पिता और गुरु का सम्मान करें। और उनका दिल कभी ना दुखाए तोमर ने बच्चों को सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा गीत भी सुनाया।

यह भी पढ़ें…गुना : प्राथमिकता से कराया जाएगा उच्च जोखिम वाले समूहों का टीकाकरण

कार्यक्रम से जुड़े अधिकारी द्वय से सवाल करते हुए पूछा कि वैक्सीन के बारे में तमाम तरह की अफवाह और भ्रांतियां फैल रही है। उनको हम कैसे दूर करें। इसके जवाब में डॉ अजीत मिश्रा ने कहा कि वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। हमें अफवाहों में नहीं आना चाहिए। एक छात्र ने पूछा कि मेंटल हेल्थ को कैसे मेंटेन करें। जिसके जवाब में मिश्रा ने कहा कि नेगेटिव बातें न सुने। योग करें, संतुलित आहार लें और अच्छी पुस्तकें पढ़ें और टीवी पर अच्छे प्रोग्राम देखें। एक बच्ची ने सवाल कर दिया सरकारी अस्पतालों में गरीब ही क्यों जाते हैं अमीर क्यों नहीं। जिसके जवाब में जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि ऐसा नहीं है, सरकारी अस्पताल सब के लिए है और इसमें सभी इलाज कराने के लिए आते हैं। खासकर भिण्ड में कोई निजी बड़ा चिकित्सालय नहीं है। जिसके कारण सभी सरकारी अस्पताल में ही इलाज कराने पहुंचते हैं। वहीं एक छात्र ने पूछा कि डॉक्टर कोरोना से कैसे प्रभावित हो गए। तब डॉक्टर मिश्रा ने जवाब दिया कि कोरोना के लिए सब बराबर हैं ,जो प्रोटोकॉल का पालन नहीं करेगा वह संक्रमित होगा। जिला शिक्षा अधिकारी तोमर से एक छात्र ने पूछा कि स्कूल कब खुलेंगे। जिसके जवाब में तोमर ने कहा कि कोरोना खत्म होने पर ही सरकार स्कूलों के लिए गाइडलाइन तय करेगी। एक बच्चे ने पूछा कि मानसिक तनाव हम कैसे दूर करें जिस पर श्री तोमर ने कहा कि हम आर्ट ऑफ लिविंग को अपनाएं योग करें। तोमर ने यह भी जानकारी दी कि प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) के द्वारा सी एम राइज स्कूल खोले जा रहे है। जिसमें से एक स्कूल भिण्ड में भी खोला रहा है वह स्कूल निजी स्कूलों के मुकाबले कहीं ज्यादा बेहतरीन होगा।

अंतिम दिन बच्चों से जुड़ेंगे सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया
प्रदेश सरकार में सहकारिता मंत्री डॉ अरविंद सिंह भदोरिया बाल विमर्श के अंतिम समापन के दिन जिले के बच्चों से जुड़कर बाल विमर्श करेंगे। उनके प्रश्नों का जवाब देंगे। कार्यक्रम के संयोजक मनीष ओझा ने बताया कि समापन कार्यक्रम में अब तक जितने अधिकारी जुड़े हैं वह सभी समापन दिवस पर ऑनलाइन बाल दिवस कार्यक्रम से जुड़ेंगे। बाल विमर्श समापन सत्र की अध्यक्षता अशोक पांडे पूर्व न्यायाधीश एवं पूर्व अध्यक्ष मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग करेंगे।