भोपाल| प्रदेश में बाघों की संख्या के कारण मध्य प्रदेश को ‘टाइगर स्टेट’ कहा जाता है| लेकिन प्रदेश की सियासत में अब एक और ‘टाइगर’ की एंट्री चर्चा में है| विधानसभा चुनाव में हार के बाद शिवराज सिंह चौहान (Shivraj SIngh Chauhan) का एक डायलॉग अक्सर सुनने को मिलता था कि ‘टाइगर अभी ज़िंदा है’ (Tiger Abhi Zinda Hae)| लेकिन अब ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने भी खुद को टाइगर बताकर सियासी गलियारों में हलचल मचा दी है| अब प्रदेश की राजनीति में एक बार फिर से बहस छिड़ गई है कि टाइगर कौन है।

दरअसल, मंत्रिमंडल विस्तार के बाद राजभवन से बाहर निकले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला| उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि उसे प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता की चिंता नहीं है। कांग्रेस तो सिंहासन के लिए छटपटा रही है। सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को चेतावनी देते हुए कहा ‘टाइगर अभी जिंदा है’।

सिंधिया का यह बयान सियासी गलियारों में वायरल हो गया है| सवाल उठ रहे हैं क्या एमपी में बीजेपी का नया टाइगर अब ज्योतिरादित्य सिंधिया होंगे। कैबिनेट विस्तार में भी सिंधिया का दबदबा देखने को मिला है| शिवराज की सरकार में सिंधिया के दबदबे को लेकर कांग्रेस भी तंज कसने से नहीं चूक रही है और सिंधिया के बयान को भुनाते हुए इसे दो टाइगरों की लड़ाई बता रही है| वहीं कांग्रेस के मीडिया कोऑर्डिनेटर नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट कर कहा ‘जो अपने प्रतिनिधि से 1.5 लाख से ज़्यादा वोटों से हारे , जिन्हें उनके क्षेत्र की जनता ने बुरी तरह से नकार दिया , वो आज ख़ुद को टाइगर बताते हुए कह रहे है कि “टाइगर अभी ज़िंदा है “टाइगर भी नाराज़ हो जायेगा’। सोशल मीडिया पर सिंधिया का खुदको टाइगर बताना चर्चा का विषय बना हुआ है|