‘कमल’ का ‘नाथ’ पर पलटवार, ’15 महीने काम न करने वाले किस मुंह से मांग रहे पंद्रह साल का हिसाब’

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट
राजीव गांधी की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) ने भाजपा (BJP) पर निशाना साधा| उन्होंने कहा कि उपचुनाव (By-election) तक रोज घोषणाएं होंगी, भाजपा को पहले अपने पंद्रह साल का हिसाब देना होगा। कमलनाथ के इस बयान पर कृषि मंत्री कमल पटेल (Agriculture Minister Kamal Patel) ने पलटवार करते हुए कहा कि पंद्रह महीने तक कोई काम नहीं करने वाले कमलनाथ किस मुंह से भाजपा के पंद्रह साल का हिसाब मांग रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पचास साल के कार्यकाल पर भाजपा के पंद्रह साल कई गुना भारी हैं।

कृषि मंत्री पटेल ने कमलनाथ को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि पंद्रह महीने में आपने सिर्फ धोखा दिया, किसानों, युवाओं, महिलाओं और बुजुर्गों के लिए बड़ी बड़ी घोषणाएं की लेकिन उन्हें पूरा नहीं किया इसलिये आम जनता तो दूर अपने ही सांसद, विधायकों और मंत्रियों का विश्वास खो दिया, कमल पटेल ने कहा कि कमलनाथ ने अगर काम किया होता तो इस तरह सरकार से सड़क पर आने की नौबत नहीं आती। कमलनाथ को भाजपा से सवाल करने का नैतिक अधिकार ही नहीं है। भाजपा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नारे सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में चरितार्थ कर रही है इसलिए सभी 27 सीटों के उपचुनाव में भाजपा की जीत होगी, प्रदेश के किसान, युवा, महिलाएं और बुजुर्ग अब कांग्रेस के धोखे में आने से रहे।

कमल पटेल ने कहा कि वर्ष 2003 में भाजपा सरकार बनी तब प्रदेश में केवल 2990 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता था, पूरा राज्य बिजली के संकट से जूझ रहा था आज प्रदेश में 18 हजार मेगावाट बिजली उत्पादन की क्षमता बढ़ाकर राज्य को आत्मनिर्भर बनाया जा चुका है, प्रदेश में निर्बाध बिजली की सप्लाई हो रही है। कृषि उत्पादन के क्षेत्र में भाजपा के आने से पहले पिछड़ा हुआ था, प्रदेश में केवल 7.50 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध थी जिसे बढ़ाकर 42 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कर लिया गया है, इससे पहले जहां कृषि उत्पादन में हम माइनस में थे वहीं अब 26 प्रतिशत ग्रोथ के साथ प्रदेश को कृषि क्षेत्र में अग्रणी बना लिया गया है। सड़कों के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह मिस्टर बंटाधार के नाम से विख्यात थे आज गांव गांव तक सड़क का जाल बिछा है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री सड़क योजना के तहत छोटे से छोटे गांव तक सड़क बनाई जा चकी है। कमल पटेल ने कहा कि पिछले वर्ष कमलनाथ के कार्यकाल में प्रदेश में 68 लाख मेट्रिक टन गेहूं खरीदा गया था, इस साल भाजपा सरकार के कार्यकाल में 129 लाख मेट्रिक टन गेहूं की खरीद कर मध्यप्रदेश ने पंजाब को पीछे छोड़कर अव्वल स्थान पाया है, किसानों को उनकी फसल का भुगतान भी कर दिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश ने लगातार छह बार कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त कर कीर्तिमान स्थापित किया है। कांग्रेस और कमलनाथ भाजपा सरकार के काम से अपनी तुलना नहीं कर सकते।