आज दुआ-ए-खास से होगा आलीमी तब्लीगी इज्तिमा का समापन

Bhopal-Ijtima-last-day-end-with-prayer

भोपाल। 

71वें आलीमी तब्लीगी इज्तिमा के तीसरे दिन भी तकरीरें का दौर सुबह फजिर की नमाज की बाद से शुरू हो गया। सुबह फजिर के बाद मौलान जमशेद साहब ने दीन, दावत और नमाज का मकसद समझाते हुए कहा है कि नमाज का दामन थाम कर चलो। नमाज से अल्लाह राजी होगा, जब अल्लाह राजी हो जाएंगे, तो दुनिया और आखरत भी तुम्हारी हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि अल्लाह ने इंसान को दुनिया में मकसद के साथ भेजा है और मकसद इंसानियत फैलाने और अल्लाह को राजी करना है। अगर तुम्हें अल्लाह को राजी करना है, तो तुम्हें दीन समझना होगा और लोगों को दीन की दावत देनी होगी। साथ ही नमाज अपनी जिंदगी का अहम हिस्सा बना होगा। नमाज से अल्लाह तो राजी होता है साथ ही नमाज आपको इंसानियत के करीब ले आती है। उन्होंने कहा कि इंसान के सारे मसले मसाइल सिर्फ और सिर्फ नमाज से ही हल हो सकते है। क्योंकि आप जब नमाज को कायम करते है, तो अल्लाह आपके करीब होते है। आज शाम छह बजे होने वाली दुआ-ए-खास में शिरकत करते के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे है। शनिवार को इज्तिमागाह पहुंचने वालों की तादाद करीब छह लाख तक पहुंच गई, जबकि देर रात तक और आज सुबह फजिर से ही इज्तिमा में पहुंचने वालों का सिलसिला जारी रहा। आज शाम छह बजे होने वाली दुआ-ए-खास के बाद तब्लीगी इज्तिमा का समापन होगा। वहीं शनिवार को सुबह से लेकर देर रात उलेमाओं तकरीरें का दौर चला। इसे सुनने के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंचे।