Bhopal News: चार सूत्रीय मांगों को लेकर डिप्लोमा इंजीनियर्स का धरना प्रदर्शन आज, पढ़ें पूरी खबर

Manisha Kumari Pandey
Updated on -
Bhopal

Bhopal News: चार सूत्रीय मांगो को लेकर डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन (Diploma Engineers Association) द्वारा भोपाल के अंबेडकर पार्क में 18 अप्रैल यानि आज धरना प्रदर्शन किया जाएगा। मध्यप्रदेश डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह भदौरिया ने बताया कि अनिवार्य पदोन्नति, पदनाम, संविदा, निचले पद, कार्यभारित स्थापना सहित अन्य मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन करने का निर्णय लिया गया है।

भदौरिया ने आगे कहा, ” सब-इंजीनियर संवर्ग (cadre) को पूर्ण सेवाकाल में एक भी पदोन्नति का लाभ नहीं मिल पा रहा है। इसलिए पूर्ण सेवा काल में एक सहायक यंत्री की पदोन्नति करना अनिवार्य होना चाहिए। पिछले 6 सालों से सरकार सुप्रीम कोर्ट का बाहना बनाकर प्रोमोशन पर रोक लगा रखी है। बल्कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा ऐसी कोई रोक नही लगाई गई है। इसके अलावा 28 वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके उपयंत्रियों को सहायक यंत्री का पदनाम भी दिया जाए। सरकार पुलिस और राजस्व विभाग के समस्त अधिकारियों की पदोन्नति और पदनाम का लाभ देती है। लेकिन सब इंजीनियर्स को सभी तकनीकी विभागों ने विभागाध्यक्ष स्तर दिए गए प्रस्ताव को अमान्य कर दिया। ऐसा करके डिप्लोमा इंजीनियर्स के साथ अन्याय किया जा रहा है।”

उन्होनें कहा, “10 सालों से अधिक समय से उपयंत्रियों की पद स्थापना नहीं की जा रही है। जिसके कारण हजारों की संख्या में उपयंत्री के पद खाली पड़े हुए हैं। इतना ही नहीं संवर्ग का प्रारंभिक वेतनमान केंद्र, उ.प्र. और छत्तीसगढ की तरह 4200 रुपये के ग्रेड पे दिया जाना चाहिए। जबकि राज्य शासन में 3600 रुपये के ग्रेड पर उपलब्ध करवा रहा है। लोक सेवा आयोग की शर्तें लगाकर ग्रेड कम दिया जा रहा है। उपयंत्री संवर्ग की भर्ती पीएससी के माध्यम से नही होती है। इसी प्रकार निचले पदो पर कार्यरत डिप्लोमा इंजीनियर्स को उपयंत्री के पदों का प्रभार देने और वर्क चार्ज उपयंत्रियों को नियमित पदस्थापना में पदस्थ करना हमारी प्रमुख मांगे हैं।”

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News