बीजेपी ने इस सांसद का काटा टिकट, अब कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज

bjp-mp-anup-mishra-may-contest-from-congress-ticket

भोपाल। मध्य प्रदेश में बीजेपी की पहली लिस्ट के ऐलान के बाद से कई वर्तमान सांसदों और दावेदारों को नराजगी हाथ लगी है। जिससे अब उनके बगावती तेवर पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं। पार्टी ने पहली लिस्ट में 15 उम्मीदवारों की घोषणा की है। इसमें पांच वर्तमान सांसदों के टिकट काटे गए हैं। मंगलवार को पूर्व मंत्री और शहडोल सांसद ज्ञान सिंह ने बगात भी करदी है। उन्होंंने निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। अब मुरैना सीट से सांसद अनूप मिश्रा भी खफा हैं और उनके कांग्रेस में जाने की अटकलें भी तेज हो गई हैं। 

भाजपा ग्वालियर-चंबल संभाग की चारों सीटों में से अभी तक सिर्फ दो सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार सकी है। इस दौरान पार्टी ने दो सांसदों के टिकट भी काटे हैं। जिसमें ग्वालियर के सांसद एवं केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर को मुरैना संसदीय क्षेत्र से टिकट दिया गया है। मुरैना से वर्तमान सांसद अनूप मिश्रा को टिकट काटा गया है। इसीक्रम में भिंड के सांसद भागीरथ प्रसाद का टिकट काट कर उनकी जगह पर संध्या राय को टिकट दिया गया है। मुरैना से टिकट कटने से सांसद अनूप मिश्रा नाराज हैं। उनकी इच्छा है कि पार्टी उन्हें ग्वालियर संसदीय क्षेत्र से मैदान में उतारे। लेकिन पार्टी उन्हें ग्वालियर से टिकट देने के मूड में नजर नहीं आ रही है। सूत्रों की माने तो ग्वालियर से पार्टी संघ की पसंद पर विवेक नारायण शेजवलकर और माया सिंह के नाम पर विचार कर रही है। 

सूत्रों की माने तो टिकट ना मिलने से नाराज सांसद मिश्रा भी कांग्रेस के संपर्क में बताए जा रहे है और यदि कांग्रेस उन्हें मुरैना या ग्वालियर से टिकट देती है तो वे कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं। वहीं मुरैना से महापौर अशोक अर्गल भिंड संसदीय क्षेत्र से टिकट मांग रहे थे, लेकिन पार्टी ने भिंड से संध्या राय को मैदान में उतारा है। अशोक अर्गल ने पिछली लोकसभा 2014 में भी भिंड से टिकट मां��ा था, लेकिन पार्टी ने कांग्रेस से आए भागीरथ प्रसाद को टिकट से नवाज दिया।उसके बाद पार्टी ने उन्हें मुरैना से माहपौर का टिकट देकर संतुष्ट किया था। इस बार अशोक अर्गल भिंड से अपना टिकट पक्का मान कर चल रहे थे,लेकिन पार्टी ने उन्हें मौका नहीं दिया।

टिकट न मिलने से नाराज अशोक अर्गल को लेकर सियासी गलियारों में अटकलें चल रही हैं कि यदि कांग्रेस भिंड से उन्हें प्रत्याशी बनाती है तो वे भाजपा का दामन छोड़ सकते हैं। इसीक्रम में सुमावली से पूर्व विधायक गजराज सिंह सिकरवार मुरैना संसदीय क्षेत्र से टिकट मांग रहे थे। लेकिन वहां से पार्टी ने सांसद मिश्रा का टिकट काट कर, नरेन्द्र सिंह तोमर को मैदान में उतारा है। नरेन्द्र सिंह तोमर 2009 में यहां से सांसद रह चुके हैं और 2014 में ग्वालियर से सांसद चुनें गए। मुरैना से नरेन्द्र सिंह तोमर को टिकट देने को लेकर पूर्व विधायक गजराज सिंह सिकरवार नाराज हैं और उन्होंने केन्द्रीय मंत्री तोमर को बाहरी प्रत्याशी बताकर ऐतराज जताया है। साथ ही मुरैना से स्थानीय कार्यकर्ता को टिकट देने की मांग की है। इस तरह देखा जाए तो अंचल में भाजपा अभी सिर्फ दो सीटों पर ही प्रत्याशियों की घोषणा हो पाई है, लेकिन विरोध के सुर सुनाई देने लगे हैं।