बाढ़ से हुए नुकसान के आकलन के लिए प्रदेश दौरे पर आएगा केंद्रीय अध्ययन दल

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश के राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने गुरूवार को दिल्ली में केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से मुलाकात की। उन्होंने प्रदेश में बाढ़ से हुई क्षति का आँकलन करने के लिए केन्द्रीय अध्ययन दल को शीघ्र भेजने का अनुरोध किया। मंत्री नरेंद्र तोमर द्वारा आश्वस्त किया गया कि दल 15 अगस्त के बाद प्रदेश के दौरे पर भेजा जाएगा।

OBC Reservation: ओबीसी पर शिवराज का मास्टर स्ट्रोक, न्यायालय में सरकार पूरी ताकत से रखेगी समर्थन में पक्ष

बाढ़ से हुए नुकसान के आकलन के लिए प्रदेश दौरे पर आएगा केंद्रीय अध्ययन दल

राजस्व मंत्री गोविन्द्र सिंह राजपूत ने बताया कि प्रदेश में अतिवृष्टि के कारण नदियों एवं बाँधों के जल स्तर में अचानक वृद्धि होने से ग्वालियर एवं चंबल संभाग के गुना, शिवपुरी, ग्वालियर, श्योपुर, भिण्ड, मुरैना एवं अशोकनगर आदि स्थानों पर आई बाढ़ के कारण जहाँ आम जनता का बहुत अधिक नुकसान हुआ, वहीं शासकीय संपत्ति को भी नुकसान हुआ है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के नेतृत्व में राज्य शासन द्वारा एसडीआरएफ, एनडीआरएफ एवं सेना के जवानो के सहयोग से बाढ़ पीड़ितों को सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया गया। बड़ी संख्या में बाढ़ में फँसे लोगों को हेलीकाप्टर की मदद से रेस्क्यू कर सुरक्षित भेजा गया। बाढ़ में फसल, मकान, दुकान, लोगों के धंधे चौपट हो गए। भारी बारिश के कारण जहाँ सड़कें उखड़ गई वहीं दूसरी ओर नदी और नाले पर बने कई पुल भी बह गए। रेल लाईन पर पानी आ जाने के कारण आवागमन पूरी तरह से प्रभावित हो गया था।

उन्होने कहा कि प्रशासन द्वारा बाढ़ पीड़ितों को राहत शिविर में सुरक्षित पहुँचाकर वहाँ उनके लिए भोजन, चिकित्सा, कपड़े आदि मूलभूत सुविधाओं की व्यवस्था की गई। मकान, धन सम्पदा के साथ-साथ लोगों को पशुधन का काफी नुकसान हुआ है।उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा जहाँ तक हो सका सारी व्यवस्थाएँ की गई परंतु नुकसान की अधिकता को देखते हुए केन्द्र शासन से मदद का आग्रह किया गया है।