किसानों के इस निर्णय को मुख्यमंत्री ने किया सलाम

cm-kamalnath-praise-mp-farmer-decision-

भोपाल। पुलवामा हमले के बाद देश भर में लोग अपने अपने तरीके से पाकिस्तान का विरोध कर रहे हैं। वहीं, मध्य प्रदेश के किसानों ने भी पाक के विरोध में बड़ा कदम उठाया है।  झाबुआ जिले के पेटलावद तहसील के किसान भाइयों ने पाक भेजे जाने वाले टमाटर नहीं भजेने का फैसला किया है। कासनों के इस फैसले की सराहना प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने भी की है। 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने ट्विटर पर लिखा है, ‘पुलवामा हादसे व आतंकी घटनाओं के विरोध में झाबुआ जिले के पेटलावद तहसील के किसान भाइयों द्वारा अपने मुनाफ़े की परवाह ना कर पाकिस्तान टमाटर नहीं भेजने के निर्णय को सलाम करता हूँ,देशभक्ति से भरे इस जज़्बे की प्रशंसा करता हूँ। हर देशवासी को इनसे प्रेरणा लेना चाहिये।’

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने भी किसानों के इस निर्णय का स्वागत करते हुए लिखा है, ‘ मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले के पेटलावद के किसान भाई नुक़सान उठा कर भी अपने टमाटर पाकिस्तान नहीं भेजेंगे यह जान कर मेरा सीना गर्व से चौड़ा हो गया। जय जवान, जय किसान। ‘

पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन जैश द्वारा कश्मीर में सीआरपीएफ पर हमला करवाया गया था। इस हमले के बाद दुनिया भर में पाक की चौतरफा निंदा हो रही है। वहीं, भारत ने पाक से निर्यात होने वाले सामान पर भी आयात शुल्क 200 फीसदी कर दिया है। जिससे दोनों देशों के बीच कोई कारोबार न हो सके। वहीं, मध्य प्रदेश के किसानों ने भी पाक टमाटर भेजने से इनकार कर दिया है। झाबुआ जिले की पेटलावद तहसील में टमाटर बहुतायत में एक्सपोर्ट क्वालिटी का होता है। जिसकी पाकिस्तान में बहुत मांग है और इस टमाटर निर्यात के चलते टमाटर उत्पादक किसानों को तगड़ा मुनाफा भी होता है, लेकिन किसान अब मुनाफे की बजाय देश और सेना की बात कर ” जय जवान – जय किसान ” की बात कर रहे है। इन टमाटर उत्पादक किसानों में पुलवामा में शहीद जवानों के शव देखकर गुस्सा तो इतना है कि वह खुद सरकार से मांग कर रहे है कि पाकिस्तान को सबक सिखाया जाये ओर जरुरत पडें तो वह खुद पाकिस्तान को सबक सिखाने को तैयार हैं । किसानों का कहना है कि चाहे तो सरकार उनके सीने पर बम बांधकर पाकिस्तान के क्षेत्र में भेज दे, ताकी वो पाकिस्तान के मंसूबों को नाकामयबा कर सके।