राजधानी में बिना सुरक्षा व्यवस्था धड़ल्ले से चल रहे कोचिंग सेंटर्स, 15 दिन का अल्टीमेटम

Coaching-centers-should-ensure-15-day-ultimatum

भोपाल

सूरत में हुए अग्निकांड के बाद प्रदेश में भी कोचिंग सेंटरों को लेकर सतर्कता बरती जा रही है। भोपाल कमिश्नर कल्पना श्रीवास्तव के निर्देश के बाद शहर के कोचिंग सेंटरों को लेकर सख्ती की जा रही है।इसके लिए चार टीमें बनाई गई है जो शहरभर मे जांच कर रही है। अब तक चेक किये गए 11 सेंटर में से 10 में नही है बड़ी लापरवाही देखने को मिली है, जहां सुरक्षा के कोई पुख्ता इंतजाम नही मिले है।इसके लिए सभी कोचिंग सेंटरों को 15  दिन का अल्टीमेटम दिया गया है ताकी वे व्यवस्था दुरुस्त कर ले वरना कार्रवाई की जाएगी। 

        दरअसल, सूरत की घटना के बाद भोपाल में जिला प्रशासन भी जाग गया है।शुरुआत जांच में एक के बाद एक कोचिंग्स के भयावह चेहरा सामने आ रहे है। अब तक चेक किये गए 11 सेंटर में से 10 में  फायर एस्टेनगयुशर और फॉयर अलार्मिंग सिस्टम नही पाया गया। जिला प्रशासन की टीम आज भी कोचिंग सेंटर्स का औचक निरीक्षण कर रही है । कोचिंग सेंटर्स में सुरक्षा के नॉम्स पूरे नहीं किए जा रहे हैं। 

कोचिंग सेटरों को 15  दिनों का अल्टीमेटम

वही लापरवाही नजर आने पर सुरक्षा के मापदंड पूरे नहीं करने वाली कोचिंग को  15 दिन का समय स्कोर दिया जा रहा है।15 दिनों के भीतर व्यवस्था नहीं सुधरी तो बड़ी कार्रवाई हो सकती है।एमपी नगर में ही लगभग 500 कोचिंग सेंटर्स संचालित किये जा रहे हैं ।सुरक्षा को ताक पर रखकर कोचिंग सेंटर चलाए जा रहे हैं ।इस संबध में 28 मई को जिला प्रशासन को टीम रिपोर्ट सौपेंगी ।

भोपाल कमिश्नर ने बनाई जांच के लिए चार टीमें

बता दे कि इस हादसे के बाद भोपाल की संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने बड़ा कदम उठाया है। उन्होंने बच्चों की सुरक्षा के लिए शहर में चार टीमें बनाई, जो पूरे भोपाल की कोचिंग संस्थानों के बारे में ब्यौरा इकट्ठा करेंगे और जो उन्हें सौंपेंगें। 28 मई तक कोचिंग संस्थानों को संभाग आयुक्त द्वारा दिए गए सुरक्षा मानकों का पालन करना जरूरी होगा।इस संबंध में संभागायुक्त ने निर्देश जारी कर दिए है।

सीएम ने भी दिए जांच के आदेश

इधर, मुख्यमंत्री कमल नाथ ने प्रदेश के सभी कोचिंग संस्थानों में सुरक्षा संबंधी व्यवस्थाओं को पुख्ता बनाने एवं इस संबंध में सभी ज़रूरी क़दम उठाने के निर्देश मुख्य सचिव को दिए हैं। नाथ ने इस दिशा में उठाए गए सभी क़दमों और व्यवस्थाओं की रिपोर्ट 15 दिन में प्रस्तुत करें। नाथ ने मुख्य सचिव से कहा है कि सभी जिला कलेक्टरों को निर्देशित करें कि वे अपने जिले में चल रहे सभी कोचिंग संस्थानों को सूचीबद्ध कर वहां की सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा करें। 

गौरतलब है कि शुक्रवार देऱ शाम डायमंड सिटी के नाम से मशहूर सूरत के सरथना इलाके में एक व्‍यवसायिक इमारत के तीसरे मंजिल पर चल रहे कोचिंग सेंटर में आग लग गई थी जिसमें के करीब 20 स्‍टूडेंट्स की मौत हो गई । विनाशकारी आग से बचने के लिए करीब एक दर्जन स्‍टूडेंट इमारत के तीसरे और चौथे फ्लोर से कूद गए। जिसमें करीब 20  लोग घायल हो गए।हादसे के बाद से पूरे सूरत में मातम नजर आ रहा है वहीं मामले की जांच जारी है। घटना के बाद खबर है कि पुलिस ने अब तक कोचिंग संचालक को गिरफ्तार किया है वहीं तीन लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज किया गया है। वहीं शहर में हर तरह की कोचिंग क्लासेस के संचालन पर फिलहाल रोक लगी दी गई है। क्लासेस अब तभी शुरू होंगी जब उनमें फायर सेफ्टी की व्यवस्था होगी।