मिर्ची बाबा की ‘जल समाधि’ लेने का मामला गरमाया, कलेक्टर ने DIG को लिखा पत्र

Collector-Wrote-a-letter-to-DIG-in-the-matter-of-mirchi-baba

भोपाल।

एमपी में वैराग्य नंद गिरी उर्फ मिर्ची बाबा द्वारा जल समाधि लेने का मामला गर्मा गया है।अब कलेक्टर ने मामले में संज्ञान लेने के लिए डीआईजी भोपाल को पत्र लिखा है। जिसमें कहा गया है कि इस तरह की अनुमति देने का प्रावधान नहीं है।बता दे कि बाबा ने 16 जून को दोपहर 2 बजकर 11 मिनट पर जल समाधि लेने के लिए अनुमति मांगी है, इसके लिए उन्होंने अपने वकील के जरिए  कलेक्टर को पत्र भेजा है और लिखा है कि वो अपनी बात पर अटल है और जो प्रण लिया है उसे जरूर पूरा करेंगे।

दरअसल, बाबा ने 16 जून को दोपहर 2 बजकर 11 मिनट पर जल समाधि लेने का ऐलान किया है।इसके लिए उन्होंने जिला कलेक्टर से समाधि लेने की अनुमति मांगी है। बाबा ने अपने वकील के जरिए जिला कलेक्टर को भेजा है।  इसमें उन्होनें साफ लिखा है कि दिग्विजय सिंह के लिए उन्होंने कोहेफिजा इलाके में मिर्ची यज्ञ किया था और कहा था कि यदि दिग्विजय सिंह नहीं जीते तो वो जल समाधी लेंगे।बाबा ने कहा है कि  अपनी बात पर अटल हैऔर जो प्रण लिया है उसे जरूर पूरा करेंगे।   अभी वह कामाख्या मंदिर (असम) में तपस्या कर रहे हैं और वह 16 जून को दोपहर 2 बजकर 11 मिनिट पर जल समाधि लेना चाहते हैं।बाबा के इस वायरल पत्र के बाद हड़कंप मच गया है। इस पर कलेक्टर ने डीआईजी को लिखे पत्र लिखा है और कहा है कि आवेदन पत्र में लिखी गई बातों पर डीआईजी संज्ञान लेकर विधि सम्मत कार्रवाई करें। उन्होंने मिर्ची बाबा की जानमाल की सुरक्षा को लेकर डीआईजी को कार्रवाई को लेकर पत्र लिखा है।

ये है पूरा मामला

दरअसल, महामंडलेश्वर स्वामी वैराग्यानंद वही मिर्ची बाबा हैं, जिन्होंने दिग्विजय सिंह की जीत के लिए  साढ़े 5 क्विंटल लाल मिर्च का यज्ञ किया था और  कहा था कि अगर दिग्विजय सिंह नहीं जीते तो वह यज्ञ कुण्ड में जीवित समाधि ले लेंगे, लेकिन दिग्विजय बीजेपी की साध्वी प्रज्ञा से तीन लाख से ज्यादा वोटों से हार गए। वही नतीजों के बाद से ही बाबा अंडर ग्राउंड हो गए है।किसी को उनके बारे मे कोई खबर नही थी। सोशल मीडिया पर भी बाबा ट्रेंड करने लगे है और लोगों ने उन्हें खोजना शुरु कर दिया। खास बात तो ये थी कि कुछ यूजर्स ने तो पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज को ही उनका पता करने को कह दिया था।हालांकि रमजान के महिने में  उन्हें यूपी में एक रोजा इफ्तार पार्टी में देखा गया था।इशके बाद कुछ लोगो ने बाबा का ढूंढकर लाने वाले को एक लाख रुपए देने का ऐलान भी किया गया था। बाबा का एक आडियो भी वायरल हुआ था जिसमें बाबा ने उनकी जलसमाधी का सवाल पूछने पर युवक को डांट दिया था।  हालांकि बाद में महामंडलेश्‍वर वैराज्ञानंद गिरी उर्फ मिर्ची बाबा पर निरंजनी अखाड़े ने कार्रवाई करते हुए उनसे अखाड़े के महामंडलेश्वर की पदवी को छीन कर हुए बाहर का रास्ता दिखा दिया था। लेकिन इन सब सुर्खियों के बीच अब बाबा वापस लौट आए है और अपना वादा पूरा करने का ऐलान किया है।