WHO के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित- मंत्री विश्वास सारंग का बयान

कोरोना से भारत में हुई मौतों को लेकर डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट का अहमदाबाद में देश के स्वास्थ्य मंत्रियों के स्वास्थ्य चिंतन शिविर में खंडन किया गया। साथ ही डब्ल्यूएचओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया गय है, मंत्री विश्वास सारंग भी इस शिविर में शामिल हुए।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट को लेकर शुरू हुआ घमासान अभी भी थमा नही है, इस मामलेमें जहां एक तरफ विपक्ष केंद्र सरकार पर हावी है वही दूसरी तरफ बीजेपी के मंत्री इस रिपोर्ट को सिरे से नकार रहे है। अब अहमदाबाद में देश भर के स्वास्थ्य मंत्रियों की स्वास्थ्य चिंतन शिविर में इस रिपोर्ट का खंडन किया गया है, इसके साथ ही चिंतन शिविर में डब्ल्यू एच ओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया गया है। गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत सरकार ने कोविड 19 में जितनी मौतें दर्ज की है असल में उससे 10 गुना ज्यादा लोगो ने कोरोना से संक्रमित होने के बाद जान गवाई है। हालांकि डब्ल्यू एच ओ के इस बयान को केंद्र सरकारने सिरे से खारिज कर दिया है, डब्ल्यू एच ओ ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण दुनिया भर में करीबन 1.5 करोड़ मौत हुई और भारत में यह आकंड़ा 47.5 लाख का है।

यह भी पढ़ें… विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस का भ्रम फैलाने झूठ का घोषणा पत्र तैयार- गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा

कोरोना में मौतों को लेकर डब्ल्यूएचओ की यह रिपोर्ट का मुद्दा अहमदाबाद में देशभर के स्वास्थ्य मंत्रियों के स्वास्थ्य चिंतन शिविर में भी गूंजा। मध्यप्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग भी इस चिंतन शिविर में शामिल हुए, भोपाल लौटे मंत्री सारंग ने कहा की इस मुद्दे पर चिंतन शिविर में सभी स्वास्थ्य मंत्रियों ने चर्चा की और शिविर में इसको लेकर डब्ल्यूएचओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया गया। मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने अपने आंकड़ो को लेकर कोई आधार नहीं बताया है। मैथेमेटक्स फार्मूले से मौतों के आंकड़े जारी करने की बात कही जा रही है। शिविर में इस बात पर भी चर्चा हुई है कि डब्ल्यूएचओ ने हिंदुस्तान को बदनाम किया है क्योंकि हिंदुस्तान में जन्म-मृत्यु पंजीयन को लेकर फूल प्रूफ सिस्टम है। वही सर्वसम्मति से इस चिंतन शिविर में डब्ल्यूएचओ के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया गया है। वही मंत्री सारंग ने इस मुद्दे को हवा देने वाले कांग्रेस नेताओं सहित राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि जिसे पूरा देश नकार चुका है वह डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट का समर्थन कर रहे है।