कांग्रेस को जियो के नेटवर्क से आपत्ति, गुजराती कंपनी के इंजीनियरों पर शंका

congress-raise-objection-on-jio-company-network

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे 11 दिसंबर को आना हैं। मतगणना से पहले कांग्रेस ने अब ईवीएम स्ट्रांग रूम में जियो कंपनी के नेटवर्क पर वेबकास्टिंग करने पर आपत्ति जताई है। कांग्रेस ने निर्वाचन आयोग से जियो की जगह बीएसएनएल  का नेटवर्क लगाने की मांग की है। पार्टी नेताओं को शंका है कि जियो कंपनी के कर्मचारी वेबकास्टिंग के लिए विभिन्न उपकरण स्ट्रांग रूम के आस पास लेकर काम कर रहे हैं। इससे ईवीएम मशीने में छेड़ छाड़ की संभावना है। 

कांग्रेस ने शिकायत में बताया है कि स्ट्रांग रूम के बाहर की लाइट बार बार बिजली जाने से बंद हो जाती है। ऐसी स्थिति में ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ की बात को नकारा नहीं जा सकता। जियो कंपनी के कर्मचारी वेबकास्टिंग के लिए कई तरह के उपकरण का उपयोग कर रहे हैं। ऐसे में मतगणना दिवस पर अनुचित स्थिति बनने की संभवाना है। इसमें ईवीएम हैकिंग भी शामिल है। जियो कंपनी के कर्मचारी ईवीएम मशीनों के आसपास विभिन्न उपकरण लेकर घूम रहे हैं। इस संबंध में कई बार अधिकारियों को अवगत करवाया गया और उनसे शिकायत भी की गई। लेकिन कोई सकारात्मक परिणाम हासिल नहीं हुए हैं। इससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में असंतोष की भावना बढ़ रही है। 

कांग्रेस का आरोप है कि मतगणना स्थल पर वेबकास्टिंग और सीसीटीवी के नाम पर गुजरात की संघवी इंफोटेक कंपनी के इंजीनियर स्ट्रांग रूम के आस पास घूम रहे हैं। जबकि इस तरह का कार्य न मतगणना स्थल पर होना चाहिए और न ही स्ट्रांग रूम के पास। कांग्रेस ने मांग की है कि इस कंपनी के कर्मचारी लैपटाप और अन्य डिवाइस लेकर मौजूद रहते हैं। इसलिए इनका प्रवेश इस जगह बंद किया जाए। इसके अलावा वेबकास्टिंग भी जियो के नेटवर्क पर किए जाने की जानकारी प्राप्त हुई है। हमारी मांग है कि प्राइवेट कंपनी के बजाए बीएसएनएल के नेटवर्क पर वेबकास्टिंग करवाई जाए।