कांग्रेस सेवादल शिविर में बांटी किताब में सावरकर-RSS पर लिखे विवादित तथ्य, मचा बवाल

भोपाल।

राजधानी भोपाल से सटे बैरागढ़ में आयोजित कांग्रेस सेवा दल का राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर पहले ही दिन विवादों में घिर गया।विवाद शिविर में बीजेपी, आरएसएस और सावरकर से जुड़े एक किताब को बांटने को लेकर हुआ। इसका शीर्षक – ‘वीर सावरकर, कितने वीर’है। इसमें वीर सावरकर और आरएसएस पर कई गंभीर आरोप लगाने के साथ ही विवादित टिप्पणियां भी लिखी गई हैं। बीजेपी ने इसको लेकर आपत्ति जताई है, वही कांग्रेस ने भी जमकर पलटवार किया है। किताब के सामने आने के बाद जमकर बवाल मच गया है।

इसमें बताया गया है कि आरएसएस ने हिटलर के नाजीवाद और मुसोलिनी के फासीवाद से प्रेरणा ली है। नेताजी बोस की आजाद हिंद फौज के खिलाफ आरएसएस और हिंदू महासभा की भूमिका का भी जिक्र किया गया।कहा गया है कि जब नेताजी सुभाषचंद्र बोस द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान विदेशी सहायता सुनिश्चित कर रहे थे, तब सावरकर ने अंग्रेजों को पूर्ण सैन्य सहयोग की पेशकश की थी। उन्होंने हिटलर की तारीफ भी की थी।वही लैरी काॅलिंस और डाॅमिनिक लैपिएरे की किताब फ्रीडम एट मिडनाइट के पेज नंबर 423 के हवाले से कहा गया है कि सावरकर ने अपने अनुयायियाें काे अल्पसंख्यक महिलाओं से दुष्कर्म के लिए उकसाते थे। साथ ही 12 साल की उम्र में उन्हाेंने मस्जिद पर पथराव किया था।

बीजेपी हुई हमलावर

इस किताब के बांटे जाने के बाद बीजेपी कांग्रेस आमने सामने आ गई है। बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस अपने लोगों को गलत जानकारी, गलत तथ्य पढ़ाती है। संघ तीस या चालीस के दशक में नहीं, 1925 में बन गया था। सावरकर जी का डाक टिकिट तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जारी किया था। उन्होंने सावरकर को आजादी का योद्धा बताया था।   तथ्यों को तोड़कर पेश करती है, इन्हें शर्म करना चाहिए।नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का कहना है कि कांग्रेस के नेताओं को सिर्फ एक ही परिवार के भक्ति भाव से ही मतलब है, उसे भारत के इतिहास और महापुरुषों की जानकारी नहीं है। इतिहास गवाह है कांग्रेस ने महात्मा गांधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल और बाबा साहेब आंबेडकर जैसी महान शख्सियतों को अपमानित करने का काम किया।  

कांग्रेस ने किया पलटवार

वही कांग्रेस का कहना है कि  कोई गलत जानकारी सेवा दल के कार्यकर्ताओं को नहीं दी गई। जो सच्चाई है, जो हकीकत है, वही उन्हें बताया जा रहा है। कार्यकर्ता यही जानकारी जनता को देंगे। बीजेपी और आरएसएस की सच्चाई जनता को बताएंगे।।यही जानकारी कार्यकर्ता जनता के बीच जाकर बताएंगे. आरएसएस सांप्रदियकता फैलाने के अलावा कोई सीख नहीं देती है। आरएसएस जहर फैलाने का काम करती है। यही जानकारी किताबों के माध्मय से प्रदेश की जनता तक पहुंचाई जा रही है।

कांग्रेस सेवादल शिविर में बांटी किताब में सावरकर-RSS पर लिखे विवादित तथ्य, मचा बवालकांग्रेस सेवादल शिविर में बांटी किताब में सावरकर-RSS पर लिखे विवादित तथ्य, मचा बवाल