एमपी साइबर क्राइम की कार्यशैली को एफबीआई ने सराहा

420
FBI-appreciates-the-functioning-of-Madhya-pradesh-cyber-crime

भोपाल| अंतर्राष्ट्रीय ठग गिरोह का पर्दाफ़ाश करने पर राज्य साइबर क्राइम पुलिस की वाहवाही हो रही है| विश्व की सबसे जानी-मानी जाच एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) ने मध्य प्रदेश साइबर क्राइम विभाग की कार्यशैली की जमकर सराहना की है। एफबीआई की तरफ से भारत भूटान श्रीलंका और मालदीव में पदस्थ अधिकारी माइकल स्टुकल ने मध्य प्रदेश साइबर क्राइम के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा से मुलाकात कर हाल ही में साइबर क्राइम की टीम द्वारा अंतरराष्ट्रीय ठग गिरोह का पर्दाफाश करने के लिए उन्हें बधाई दी। 

शर्मा ने माइकल स्टुकल को 1500 अमेरिकी लोगों लिस्ट भी सौंपी जो इस ठग गिरोह के शिकार हुए हैं | इनमें एक व्यक्ति तो ऐसा है जिसके खाते से 28000 डालर यानी लगभग 2100000 ठग लिए गए थे। बता दे कि हाल ही में इंदौर के C21 मॉल के पीछे प्लेटिनम प्लाजा में छापा मारकर मध्य प्रदेश  साइबर क्राइम विभाग की टीम ने एक अंतरराष्ट्रीय कॉल सेंटर पकड़ा था और इस बात का पर्दाफाश किया था कि यह लोग व्यापक पैमाने पर अमरीकी निवासियों से ठगी का काम कर रहे हैं। इस गिरोह में 3 सरगना सहित लगभग 80 कर्मचारी है जिनमें युवक और युवतियां दोनों शामिल है और यह सभी नागालैंड और मेघालय के रहने वाले है। 

ठगी पर मिलता था इंसेंटिव 

इन लोगों के पास अमेरिका के 1000000 निवासियों के डाटा मौजूद थे और यह उन्हें ड्रग ट्रैफिकिंग और मनी लॉन्ड्रिंग का डर दिखाकर पैसे ठग लिया करते थे। कॉल सेंटर में काम करने वाले युवक-युवतियों को $100 ठगने पर ₹500  इंसेंटिव मिलता था। यह लोग डायरेक्ट इंटरनेशनल डायलिंग या मैजिकजैक तकनीक के आधार पर ठगी का काम करते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here