बाढ़ग्रस्त जिलों में सांकेतिक रूप में होगा अन्न उत्सव, सी एम ने की घोषणा

भोपाल, हरप्रीत कौर रीन।  07 अगस्त को प्रदेश के बाढ़ग्रस्त इलाकों में अन्न उत्सव नहीं मनाया जाएगा। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इन जिलों के प्रभावित परिवारों को 50 किलो अनाज अलग से दिया जाएगा। फिलहाल प्रति परिवार 10 किलो अनाज अन्न उत्सव कार्यक्रम के तहत दिया जा रहा है। बाकी जिलों में अन्न उत्सव कार्यक्रम ज़ोर-शोर से समारोह पूर्वक मनाया जाएगा। कार्यक्रम में पीएम मोदी भी वर्चुअल रूप से जुड़कर प्रदेश की जनता को संबोधित करेंगे।

ग्वालियर और चम्बल संभाग में बाढ़ और तबाही के बाद मचे हाहाकार से अभी भी लोग संभल नहीं पाए है, प्रदेश के ग्वालियर-चंबल अंचल के श्योपुर, मुरैना, भिंड, शिवपुरी, दतिया, गुना, विदिशा और अशोक नगर जिले के कई गांव बुरी तरह प्रभावित हुए है। अभी भी कई इलाकों में लोगों के पानी मे फंसे होने की खबरे आ रही है, वही अभी भी बड़ी संख्या में लोग राहत शिविरों में हैं। जिन इलाकों में पानी उतर चुका है, उन स्थानों में अब सफाई चुनौती बन गई है, प्रशासन की कई टीमें अलग-अलग कामों में जुटी हुई हैं। सीएम शिवराज ने यहां केवल रूटीन की तरह ही अन्न उत्सव कार्यक्रम करने का फैसला लिया है। यहां राशन दुकानों पर लोगों को रोजाना की तरह राशन दिया जाएगा। किसी तरह का कोई समारोह नहीं होगा। प्रदेश के बाकी जिलों में कार्यक्रम तय तैयारियों के तहत ही होगा।

सीएम शिवराज ने ट्वीट करते हुए बताया है, कि प्रदेश में अन्न उत्सव के इस कार्यक्रम के माध्यम से प्रदेश के 1 करोड़ 15 लाख परिवारों को 5 किलो गेहूं और चावल प्रति व्यक्ति के हिसाब से प्रतिमाह मिलेगा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में गरीबों के कल्याण एवं उन्नति के हरसंभव प्रयास करने के लिए मध्यप्रदेश प्रतिबद्ध है।सीएम शिवराज ने लिखा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गरीबों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध हैं. उनके आशीर्वाद तथा वर्चुअल गरिमामय उपस्थिति में मध्यप्रदेश में 07 अगस्त को ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ अंतर्गत अन्न उत्सव का कार्यक्रम संपन्न होगा।