पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का RSS प्रमुख मोहन भागवत को पत्र, देखिए आखिर क्या लिखा इस चिट्ठी में

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को पत्र लिख कर आरोप लगाया है कि संघ के अनुषांगिक संगठन बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता हत्या व नशे के कारोबार में संलिप्त हैं। इस बात को प्रमाणित करने के लिए उन्होंने 3 उदाहरण भी दिए हैं। दिग्वजय ने लिखा है कि आरएसएस हमेशा संस्कृति की दुहाई देती है जबकि आरएसएस के आनुषांगिक संगठन बजरंग दल व विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता इसके विपरीत आचरण करते हैं और आपराधिक कृत्यों में लिप्त हैं।

ग्वालियर में सटोरियों के हौसले बुलंद, पत्रकार को सड़क पर लाठी डंडों से पीटा 

दिग्विजय सिंह ने पत्र में लिखा कि पहली घटना मध्यप्रदेश के महाकौशल अंचल में आदिवासी बहुलता वाले जिले मंडला में गत वर्ष घटी थी। जब बजरंग दल के पदाधिकारी हैप्पी यादव ने अपने साथियों के साथ मिलकर एन.एस.यू.आई. के कार्यकर्ता सोनू परोचिया को सरेआम गोली मार दी और जीप चढ़ाकर हत्या कर दी। आरोपियों पर मंडला जिले में आतंक फैलाने, मारपीट करने, बलवा करने, अड़ीबाजी करने जैसे अनेक संगीन मामले थानों में दर्ज हैं।

बीजेपी युवा मोर्चा के जिला अध्यक्षों के नाम की घोषणा, देखिए जारी सूची..

दूसरी घटना में मंडला जिले में बाबूलाल यादव नामक गुंडे ने ब्राम्हण परिवार के एकमात्र कमाने वाले पुत्र अभिषेक ज्योतिषी की तलवारों से छलनी कर हत्या कर दी। उसके भाई आनंद को तलवार मार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। ज़ख्मी भाई, बहन थाने में गुहार लगाते रहे है उधर गुंडों का गिरोह घर से निकालकर अभिषेक को तलवारों से गोदते रहे। पुलिस मूकदर्शक बनी रही। तीसरी घटना अभी हाल ही में भोपाल में हुई। जहां देश के ख्याति प्राप्त फिल्म निर्माता, निर्देशक प्रकाश झा की एक वेब सीरीज की शूटिंग के दौरान बजरंग दल के प्रदेश संयोजक सुनील सुडेले के साथ पहुंचे गुंडो ने जमकर उत्पात मचाया और तोड़-फोड़ की। क्रू मेम्बर्स को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। खास बात यह है कि एक भी अपराध में पुलिस अपराधियों पर कार्रवाई नहीं कर रही क्योंकि वे बजरंग दल और विहिप से जुड़े हैं।

ओमिक्रॉन : भारत में भी दस्तक, कर्नाटक में मिले दो मामले

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का पत्र 

प्रिय डॉ. मोहन भागवत जी,

मैं मध्यप्रदेश के विभिन्न शहरों में आपके संगठन आर.एस.एस. के सहयोगी अनुषांगिक संगठन के रूप में काम करने वाले विश्व हिन्दू परिषद और बंजरंग दल के कुछ कारनामों की ओर आपका ध्यान दिलाने के लिए यह पत्र लिख रहा हूँ। आप राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ को एक सांस्कृतिक संगठन कहते है जो संस्कृति के संरक्षण और उसे बचाने के लिये काम करता है। आपके पितृ संगठन आर.एस.एस. के अनेक नामों से कई संगठन अलग-अलग तरीके से और अलग-अलग उद्देश्य से काम कर रहे है। उनमें से एक विश्व हिन्दू परिषद है, जिसकी इकाई के रूप में बजरंग दल कार्यरत है।

वैसे तो यह संगठन धर्म की कथित तौर पर रक्षा के लिये खुलेआम हथियारों का प्रदर्शन करते हैं और अमन पसंद आवाम को आंतकित करते है। जिसकी आपको भी जानकारी होगी। मैं अनेक वारदातों में से सिर्फ तीन उदाहरण आपके सामने रख रहा हूँ। पहली घटना मध्यप्रदेश के महाकौशल अंचल में आदिवासी बहुलता वाले जिले मंडला में गत वर्ष घटी थी। जब बजरंग दल के पदाधिकारी हैप्पी यादव ने अपने साथियों के साथ मिलकर एन.एस.यू.आई. के कार्यकर्ता सोनू परोचिया को सरेआम गोली मार दी और जीप चढ़ाकर हत्या कर दी। आरोपियों पर मंडला जिले में आतंक फैलाने, मारपीट करने, बलवा करने, अड़ीबाजी करने जैसे अनेक संगीन मामले थानों में दर्ज है।

मंडला में गत वर्ष दलित युवा की हत्या के बाद मैनें मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर अपराधियों के जिलाबदर की बात की थी, लेकिन उन्होने भाजपा के बडे़ नेताओं की शरण में रहने वाले गुंडातत्वों पर कोई कार्यवाही नहीं की। परिणाम स्वरूप इस वर्ष अक्टूबर माह में मंडला जिले में बाबूलाल यादव नामक गुंडे ने ब्राम्हण परिवार के एकमात्र कमाने वाले पुत्र अभिषेक ज्योतिषी की तलवारों से छलनी कर हत्या कर दी। उसके भाई आनंद को तलवार मार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। ज़ख्मी भाई, बहन थाने में गुहार लगाते रहे है उधर गुंडों का गिरोह घर से निकालकर अभिषेक को तलवारों से गोदते रहे। पुलिस मूकदर्शक बनी रही।

हत्या के सभी आरोपी बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद के पदाधिकारी और कार्यकर्ता हैं। इस बार भी पुलिस गुंडों के सामने हाथ बाधें खड़ी रही। मध्यप्रदेश में एक घटना अभी हाल ही में भोपाल में हुई। जहां देश के ख्याति प्राप्त फिल्म निर्माता, निर्देशक प्रकाश झा की एक वेब सीरीज की शूटिंग के दौरान बजरंग दल के प्रदेश संयोजक सुनील सुडेले के साथ पहुंचे गुंडो ने जमकर उत्पात मचाया और तोड़-फोड़ की। क्रू मेम्बर्स को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। बजरंग दल के आतंक का आलम देखिये कि प्रकाश झा की हिम्मत नहीं हुई की पुलिस में एफ.आई.आर. दर्ज करा सकें। इस उपद्रव में शामिल सुनील सुडेले को हत्या की साजिश के लिये 14 वर्ष और राजकुमार चैरसिया को आजीवन कारावास की सजा हो चुकी है। ये अभी जमानत पर बाहर है।

आतंक फैलाने वाले उपद्रवी प्रसिद्ध अभिनेता बाॅबी देओल को ठीक करने के लिये खोज रहे थे, जो वैनिटी वेन में बैठकर अपने को किसी तरह से बचा सके। बाॅबी देओल प्रसिद्ध अभिनेता धर्मेन्द्र के पुत्र हैं, जिस परिवार से 3 सदस्य भाजपा के सांसद रहे। धर्मेन्द्र राजस्थान की बीकानेर सीट से सांसद रहे थे, सगे बड़े भाई सनी देओल पंजाब की गुरूदासपुर से और सौतेली मॉ हेमा मालिनी उत्तरप्रदेश के मथुरा से सांसद हैं। ये सभी भाजपा के स्टार प्रचारक रहे है।

मैं यहां यह उल्लेख करना चाहूंगा कि 1993 से 2003 तक जब मैं मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री था तो हमने समाज में विद्वेष फैलाने वाले प्रतिबंधित संगठन सिमी सहित बजरंग दल की समाज विरोधी, अशांति फैलाने वाली गतिविधियों को सख्ती से रोका था और सार्वजनिक रूप से हथियारों के प्रदर्शन पर रोक लगाई थी। मेरा स्पष्ट मानना है कि धार्मिक कटट्रता किसी भी धर्म, सम्प्रदाय की हो वह समाज में नफरत के बीज बोने का काम करती है ऐसे तत्व लोकतंत्र के दुश्मन हैं। जिनके खिलाफ संविधान में निहित नियमों के तहत सख्त कार्यवाही होनी चाहिये। मैंने अपने कार्यकाल में यह करके दिखाया था।

हमारी सदियों पुरानी सर्वधर्म सदभाव की सांस्कृतिक परंपरा है गंंगा-जमुनी तहज़ीब हमारी विरासत है। वसुधैव कुटुम्बकम हमारी पहचान है। रहीम, कबीर, रैदास, सूरदास हमारे आदर्श हैं। ‘‘सारे जहॉ से अच्छा हिन्दोस्ता हमारा’’ जैसा तराना हमारी पहचान है। हम विविधता में एकता की बात करने वाले और सभी धर्मो का सम्मान करने वाले हिन्दुस्तानी हैं। स्वामी विवेकानंद ने शिकागों में हुये ‘‘विश्व धर्म संसद’’ में सनातनी भारतीय संस्कृति और पंरपरा की बात कर विश्व को हतप्रभ कर दिया था। ‘‘मानव मात्र’’ से प्रेम ही हमारी संस्कृति है। समाजविरोधी लोगों के हमलों से आज मानवता कराह रही है। धर्म और सम्प्रदाय के नाम पर अपने स्वार्थ पूरा करने वाले तत्व समाज में धर्म, सम्प्रदाय, क्षेत्रवाद और रंगभेद के नाम पर रोज नफरत फैला रहे हैं।

आज हिन्दुस्तान दुनिया का सबसे नौजवान देश है जो पूरी दुनिया में अपनी काबिलियत का लोहा मनवा रहा है। मेंरा आपसे निवेदन है कि भाईचारे की हत्या करने रोज दिन दहाड़े सड़कों पर हथियार लेकर निकलने वाले तत्वों के खिलाफ आपके राजनैतिक दल वाली सरकारों को सख्त कार्यवाही करने के लिये आपको बात करनी चाहिये। तभी ‘‘सर्वे भवन्तु सुखिनः’’ की भावना और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का स्वराज का सपना साकार हो सकेगा।

सादर,
आपका
दिग्विजय सिंह