VIT Bhopal का चौथा दीक्षांत समारोह : मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय पीठ के न्यायाधीश ने 1256 मेधावी छात्र-छात्राओं को दी उपाधि

Bhopal News : वीआईटी भोपाल विश्वविद्यालय में आज (08 अक्टूबर) चौथा वार्षिक दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया। इस दीक्षांत समारोह में 1256 स्नातकों को डिग्री प्रदान की गई। वीआईटी भोपाल के कुलाधिपति डॉ. जी. विश्वनाथन ने समारोह की अध्यक्षता की और दीक्षांत समारोह के औपचारिक आरंभ की घोषणा की। अपने अध्यक्षीय भाषण में उन्होंने छात्रों को प्लेसमेंट ड्राइव में उनकी उपलब्धियों के लिए बधाई दी और साथ ही भविष्योन्मुखी पाठ्यक्रमों को शुरू करने के लिए वीआईटी भोपाल के पहल की सराहना की। उन्होंने कहा कि वीआईटी मध्य प्रदेश के शैक्षणिक स्वास्थ्य सुधार में योगदान दे रहा है और इससे राज्य को विकसित बनाने में मदद मिलेगी। मुख्य अतिथि इंदौर में मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय पीठ के न्यायाधीश अनिल वर्मा ने दीक्षांत समारोह को संबोधित किया, वीआईटी भोपाल में अपनाई जाने वाली नवीन शिक्षण पद्धति और उन्नत पाठ्यक्रम संरचना की सराहना की। विशिष्ट अतिथि, सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स, बैंगलोर के निदेशक राजीव वर्मा ने वीआईटी भोपाल में छात्रों की पढ़ाई और प्लेसमेंट के दौरान हर एक छात्र पर व्यक्तिगत ध्यान देने की कार्य प्रणाली की सराहना की। उन्होंने छात्रों से आगे आने वाली चुनौतियों के लिए तैयार रहने और हर सफलता हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करने का आग्रह किया।

2017 से आज तक की यात्रा

वीआईटी भोपाल की असिस्टेंट वाईस प्रेसीडेन्ट कादंबरी एस विश्वनाथन ने बताया कि 2017 में विश्वविद्यालय की स्थापना से आज तक की यात्रा बड़ी रोमांचकारी रही जो कि कुल 383 छात्र छात्राओं और 32 शिक्षकों के साथ शुरू हुई थी। आज वी आई टी भोपाल विश्वविद्यालय में 10000 से अधिक विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे जिन्होंने हम पर भरोसा किया है और जो 100 प्रतिशत डॉक्टरेट शिक्षकों के साथ गुणवत्तायुक्त उच्च शिक्षा प्रदान करने एवं उसके उन्नयन की हमारी प्रतिबद्धता के सहभागी बन रहे हैं। इस बी टेक बैच (2019 – 2023), जिसे आज उपाधियाँ प्रदान की जा रही हैं, ने 59 LPA के शीर्ष पैकेज के साथ 90.5% प्लेसमेंट हासिल किया। 27 छात्रों ने 20 LPA+ पैकेज हासिल किए हैं और 93+ छात्रों ने 15 लाख प्रति वर्ष से ऊपर प्राप्त किया है। 60% नियोजित छात्रों को ड्रीम या सुपर ड्रीम ऑफर प्राप्त हुए। हमने लगातार दूसरे वर्ष ह्यूमन रिसोर्सिया, जापान से अंतर्राष्ट्रीय ऑफर प्राप्त किए। मंदी के बावजूद 2024 बैच के प्लेसमेंट भी हमारे पिछले रिकॉर्ड के अनुसार ही हैं। 400 छात्रों को अब तक प्लेसमेंट मिल चुका है और 52 LPA+ का शीर्ष पैकेज है। इन 400 छात्रों में 212+ छात्रों ने सुपर ड्रीम ऑफर हासिल किए हैं। हमने लगातार चौथे वर्ष माइक्रोसॉफ्ट प्लेसमेंट हासिल किया है जो हमारी निरंतरता को दर्शाता है। वीआईटी भोपाल ने विदेशी विश्वविद्यालयों के साथ सहयोगात्मक शैक्षणिक कार्यक्रम भी स्थापित किए हैं, जो अंतरराष्ट्रीय अनुभव प्रदान करते हैं और अनुसंधान के अवसरों को समृद्ध करते हैं।

वीआईटी भोपाल विश्वविद्यालय में यह योजना हुई शुरू

कादंबरी ने बताया कि मध्य प्रदेश में वंचित वर्ग के उत्थान, ग्रामीण छात्रों के शैक्षणिक संवर्धन के लिए वीआईटी भोपाल ने “स्टार्स” (सपोर्ट द एडवांसमेंट ऑफ़ रूरल स्टूडेंट्स ) योजना शुरू की है, जिसके अंतर्गत कुल 100 छात्र और 76 छात्राओं को, जो कि मध्य प्रदेश के सरकारी विद्यालयों से पढ़े तथा अपने जिले के टॉपर हैं, इस योजना के तहत निःशुल्क शिक्षा, छात्रावास एवं भोजन की सुविधा मिल रही है इस प्रकार विश्वविद्यालय लक्ष्य – “आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश” को साकार करने में योगदान दे रहा है। हाल के प्लेसमेंट ड्राइव में सभी पंजीकृत स्टार्स योजना के छात्रों ने प्लेसमेंट हासिल किया। इस वर्ष का माइक्रोसॉफ्ट प्लेसमेंट 5 वर्षीय इंटीग्रेटेड एमटेक के एक स्टार छात्र द्वारा हासिल किया गया था।

कुलाधिपति ने स्नातकों को शपथ दिलायी। कुलाधिपति, डॉ. जी. विश्वनाथन, वाईस प्रेसीडेंट शंकर विश्वनाथन, असिस्टेंट वाईस प्रेसीडेंट कादंबरी एस. विश्वनाथन, ट्रस्टी रमणी बालसुंदरम, मुख्य अतिथि न्यायमूर्ति अनिल वर्मा और सम्मानित अतिथि, राजीव वर्मा ने विभिन्न पाठ्यक्रमों के कुल 16 स्वर्ण पदक और 45 मेधावी छात्रों को रैंक प्रमाणपत्र प्रदान किए।

कुलपति डॉ. सेंथिल कुमार अरुमुगम ने स्वागत अभिभाषण दिया, रजिस्ट्रार डॉ. प्रद्युम्न यादव ने अतिथियों का परिचय दिया, डिप्टी डायरेक्टर, सिक्योर डॉ शिशिर कुमार शांडिल्य और परीक्षा नियंत्रक (प्रभारी) डॉ. कुमार अभिषेक ने कार्यवाही को संचालित किया।


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News