मोहन शर्मा को गैलेंट्री अवॉर्ड, शिवराज बोले ‘फेक एनकाउंटर बताने वाले अब बधाई देकर बरसाती राष्ट्रभक्त बन सकते हैं’

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट

हर साल की तरह इस साल भी गृह मंत्रालय ने स्वतंत्रता दिवस पर मिलने वाले पुलिस गैलेंट्री अवॉर्ड्स यानी वीरता पुरस्कार की घोषणा कर दी है। इस लिस्ट में पहला स्थान जम्मू-कश्मीर पुलिस को मिला है वहीं दूसरा स्थान सीआरपीएफ को देने का फैसला लिया गया है। तीसरे स्थान पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने कब्जा जमाया है।

वहीं 13 सितंबर 2008 में हुए बाटला हाउस एनकाउंटर में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा को मरणोपरांत ‘पुलिस गैलेंट्री अवार्ड’ से सम्मानित किया जाएगा। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने फेक एनकाउंटर बताने वालों को आड़े हाथ लिया है।

सीएम शिवराज सिंह ने ट्वीट के जरिए मोहन चंद्र शर्मा को सम्मानित करने की बात करते हुए, बाटला हाउस को फेक एनकाउंटर बताने वालों को भी अपने ट्वीट के जरिए घेरा है। सीएम ने ट्वीट में लिखा कि ‘बाटला हाउस एनकाउंटर में शहीद हुए स्वर्गीय इन्स्पेक्टर मोहन चंद्र शर्मा जी को स्वतंत्रता दिवस पर मरणोपरांत ‘पुलिस गैलेंट्री मेडल’ मिलेगा। कमरे में ‘आँसू’ बहाने वाले और एनकाउंटर को फेक बता कर शहादत का अपमान करने वाले चाहें तो अब उन्हें बधाई देकर ‘बरसाती राष्ट्रभक्त’ बन सकते हैं’।

बता दें कि मोहन चंद शर्मा ने 1989 में दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर के तौर पर ज्वॉइन किया था, जिसके महज 6 साल बाद ही वो आउट ऑफ टर्न प्रमोशन पाकर 1995 में इंस्पेक्टर बन गए थे। साल 2009 में मोहन चंद शर्मा को अशोक चक्र से सम्मामित किया गया था। बता दें कि ये मोहन चंद शर्मा का सातवां पदक है।

दरअसल, साल 2008 में बटला हाउस एनकाउंटर में फायरिंग के दौरान मोहन चंद शर्मा को भी गोलियां लगी थी। आतंकियों की ओर से हुई फायरिंग में मोहन चंद शर्मा घायल हो गए थे। उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां  उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी।