अतिथि विद्वान ने की आत्महत्या, भार्गव बोले-यही है सरकार की 1 साल की उपलब्धि

भोपाल।
मध्यप्रदेश के उमरिया जिले में अतिथि विद्वान संजय कुमार ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। संजय जिले के चंदिया में हो रहे अतिथि विद्वान आंदोलन में सक्रिय थे।वे काफी दिनों से परेशान चल रहे थे। उनकी मौत पर नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने शोक जताया है। वही प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर जमकर निशाना साधा है।गोपाल ने लिखा है कि क्या कमलनाथ सरकार में इंसान की जान की कीमत नही। क्या एक साल में यही सरकार की उपलब्धि है। अतिथि विद्वान अवसाद और चिंता में आत्महत्या कर रहे है।

भार्गव ने ट्वीट कर लिखा है कि उमरिया जिले के चंदिया शासकीय महाविद्यालय में क्रीड़ा अधिकारी के पद पर कार्यरत अतिथिविद्वान श्री संजय कुमार जी के निधन का समाचार मिला। उनके निधन शोक व्यक्त करता हूँ। ईश्वर दिवंगत के परिजनों को दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। ॐ शांति

भार्गव ने आगे लिखा है उमरिया चंदिया के संजय कुमार अतिथि विद्वान आंदोलन में सक्रिय थे। उनके साथियों से जानकारी मिली कि संजय कुमार अपने अनिश्चित भविष्य और आर्थिक तंगी का जिक्र अक्सर किया करते थे, वें काफी तनावग्रस्त थे। आज संजय ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उनकी आत्महत्या हमे सोचने को मजबूर करती है।

आगे भार्गव ने लिखा है संजय जैसी परिस्थितियों से आज हजारों अतिथि विद्वान गुजर रहे है। कमलनाथ
जी क्या 1 साल में आपकी यही उपलब्धि है। अतिथि विद्वान अवसाद और चिंता में आत्महत्या कर रहे है। मुख्यमंत्री जी आप कितनी ओर मौत होने का इंतज़ार कर रहे है। क्या कांग्रेस सरकार के लिए इनकी जान की कोई कीमत नही?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here